advt

रावण बाबा नम: - चम्पा शर्मा | Ravana Baba Namah

सित॰ 23, 2014

राजस्थान पत्रिका से सेवानिवृत्त मुख्य उपसंपादक सुश्री चम्पा शर्मा अब स्वतंत्र लेखन करती हैं। 1985 से 2008 तक 'दीदी की चिट्ठी’ स्तंभ (राजस्थान पत्रिका) लिखने वाली चम्पाजी ने कैलगरी के शताब्दी वर्ष के दौरान 1975 में कनाडा और अमरीका में कथक और राजस्थानी नृत्य भी प्रस्तुत किया है। 29 मई 1950 में जन्मीं चम्पाजी राजस्थान विश्वविद्यालय से दर्शनशा में एम.ए. हैं।
मोबाईल: 09928008939
ईमेल: champa.sharma1@gmail.com

रावण बाबा नम: 
कुछ लोग श्रद्धा से रावण की पूजा करते हैं।
वाल्मीकि ने भी उसे चारों वेदों का ज्ञाता माना है। उन्होंनेे यह भी लिखा है - अहो रूपमहो धैर्यमहोत्सवमहो द्युति:। अहो राक्षसराजस्य सर्वलक्षणयुक्तता।। यानी रावण को देखते ही राम मुज्ध हो जाते हैं और कहते हैं कि वह रूप, सौंदर्य, धैर्य, कांति तथा सभी लक्षणों से युक्त है।’ 
मध्य भारत का एक गांव-रावणग्राम
Ravana Temple Ravangram Vidisha रावणराज मंदिर में लेटी मुद्रा में रावण
विदिशा जिले के इस छोटे-से गांव में दशहरे के दिन का नजारा देखकर आप हैरान रह जाएंगे। यहां रावण रामायण महाकाव्य का खलनायक नहीं है। वह भक्तों का आराध्य है। वे उन्हें श्रद्धा से बाबा कहते हैं और ‘रावण बाबा नम:’ का जाप करते हुए उनकी आराधना करते हैं। रावणराज मंदिर में लेटी मुद्रा में रावण की एक बहुत ही प्राचीन प्रतिमा है। खुद को रावण का वंशज बताने वाले यहां के कान्यकुब्ज ब्राह्मणों का मानना है कि रावण एक विद्वान ब्राह्मण था। उनमें कुछ ऐसे विलक्षण गुण थे, जो किसी के लिए भी प्रेरक हो सकते हैं। इसलिए उनका पुतला जलाना उचित नहीं है। इसी भावना से खीर-पूड़ी का भोग लगाकर वे रावण की पूजा करते हैं। 
वैसे तो दशहरे के दिन अधिकांश जगहों पर रावण का पुतला जलाया जाता है, लेकिन रावणग्राम के अलावा भी कुछ स्थान ऐसे हैं, जहां रावण के मंदिर हैं और लोग उनकी श्रद्धा से पूजा करते हैं। नेपाल, इंडोनेशिया, थाइलैंड, कंबोडिया और श्रीलंका के लेखकों ने अपनी रामायण में लिखा है कि रावण में चाहे कितना ही राक्षसत्व क्यों न हो, उसके गुणों को अनदेखा नहीं किया जा सकता। रावण की मां कैकसी राक्षस पुत्री थीं, इसलिए बेटे में अपनी मां के संस्कार आना लाजिमी था। पर ऋषि संतान होने के कारण रावण में अपने पिता विश्रवा के अच्छे संस्कार भी आए। वह अपने पिता की तरह शंकर भगवान का परम भक्त, विद्वान, महातेजस्वी, पराक्रमी और रूपवान था। वाल्मीकि ने भी उसे चारों वेदों का ज्ञाता माना है। उन्होंनेे यह भी लिखा है - अहो रूपमहो धैर्यमहोत्सवमहो द्युति:। अहो राक्षसराजस्य सर्वलक्षणयुक्तता।। यानी रावण को देखते ही राम मुज्ध हो जाते हैं और कहते हैं कि वह रूप, सौंदर्य, धैर्य, कांति तथा सभी लक्षणों से युक्त है।’ इसीलिए कुछ लोगों का मानना है कि रावण के गुणों का सम्मान किया जाना चाहिए, उन्हें जलाना ठीक नहीं। रावण को पूजने के मकसद से कुछ स्थानों पर रावण के मंदिर भी बनाए गए।  

मध्यप्रदेश के ही एक और जिले मंदसौर के रावण रुंडी क्षेत्र में भी पैंतीस फुट की एक दस सिर वाली रावण की प्रतिमा 2005 में स्थापित की गई थी। हर साल दशहरे के दिन उनकी पूजा करने वाले यहां के नामदेव वैष्णव समाज के लोगों का मानना है कि रावण की पत्नी मंदोदरी यहीं की थीं। इसी भावना से वे रावण को अपना दामाद मानते हैं और औरतें उनसे पर्दा रखती हैं। 

राम भक्त बहुल प्रदेश राजस्थान में भी रावण का मंदिर होना मायने रखता है। जोधपुर में देव ब्राह्मणों के काफी परिवार बसे हुए हैं। ये खुद को महर्षि मुद्गल के वंशज बताते हैं। महर्षि मुद्गल महर्षि पुलस्त्य (रावण के दादा) के रिश्तेदार थे। इस नाते उनकी रावण के प्रति श्रद्धा है और उन्होंने यहां रावण का मंदिर बनवाया है। कहते हैं, रावण की पत्नी मंदोदरी मंडोर की थीं। मंडोर जोधपुर की प्राचीन राजधानी थी। वहां एक मंडप बना हुआ है। कहा जाता है कि रावण का मंदोदरी से विवाह यहीं हुआ था। इसे सभी रावणजी की चंवरी कहते हैं। जोधपुर के चांदपोल क्षेत्र में महादेव अमरनाथ और नवग्रह मंदिर परिसर में रावण की प्रतिमा शिवजी को अर्ध्य देते स्थापित की गई थी, इस भावना से कि लोग उनकी भक्ति को समझें। उनके इस अच्छे पहलू का अनुसरण करें। पुजारी पंडित कमलेश कुमार देव के मुताबिक भक्तगण रोज उनकी पूजा करते हैं और दशहरे के दिन पिंडदान करते हुए उनका श्राद्ध करते हैं। 

एक और जगह जहां रावण मुख्य देवता के रूप में पूजे जाते हैं, वह है कानपुर। लखनऊ का एक संप्रदाय रावण को हिंदू धर्मग्रंथों का विद्वान मानते हुए इस बात पर जोर देता है कि उनकी अच्छी बातों को उजागर किया जाना चाहिए। सैंकड़ों साल पहले, यहां के महाराज शिव शंकर ने कानपुर में रावण का मंदिर बनवाया था। केवल साल में एक बार दशहरे के दिन यह मंदिर खुलता है और सभी संप्रदाय के लोग उन्हें नमन करते हैं। मंदिर की नींव 1868 में रखी गई और इसके कुछ सालों बाद ही रावण की प्रतिमा को स्थापित किया गया। मंदिर की पांचवीं पीढ़ी के पुजारी हरिओम तिवाड़ी के मुताबिक रावण वीर, बुद्धिमान और बहुत ही अच्छा द्रविड़ गौड़ ब्राह्मण राजा था। वीणा बजाने में निपुण रावण सामवेद का समर्थक भी माना जाता है। आयुर्वेद, राजनीति विज्ञान, जादू-टोना और पवित्र ग्रंथों का ज्ञाता रावण ने रावण संहिता की भी रचना की, जो कि फलित ज्योतिष पर एक सशक्त रचना है। इसे काली किताब के नाम से भी जाना जाता है।

ella valley sri lanka ravana temple एला घाटी वॉटरफॉल्स रावण का मंदिर राजा वालगंबाश्रीलंका में भी रावण की गुफाएं और चट्टान हैं। एला घाटी, जो कि एला वॉटरफॉल्स के लिए प्रसिद्ध है, के पास से एक रास्ता जाता है जो कि मठ और एक छोटी गुफा तक ले जाता है। यह रावण का मंदिर है। इसका निर्माण लगभग एक हजार साल पहले राजा वालगंबा ने करवाया था। मंदिर की चट्टानी दीवारों में हाथी, दैत्य और लोगों के चित्र चटक लाल, नारंगी और नीले रंग में बड़ी खूबसूरती से उकेरे हुए हैं। काकीनाड़ा (आंध्रप्रदेश) में एक विशाल शिवलिंग है। माना जाता है, इसकी स्थापना स्वयं रावण ने की थी। शिवलिंग के निकट ही रावण की प्रतिमा है। मछुआरे दोनों की ही पूजा करते हैं। बैजनाथ (हिमाचल प्रदेश) के हजारों साल पुराने शिव मंदिर के बारे में मान्यता है कि रावण ने यहां शिवलिंग की वर्षों कठोर तपस्या की थी। यहीं उन्होंने अपने सिरों को एक-एक करके काटकर शिवजी को प्रसन्न करने के लिए भेंट किए थे। जब अंतिम सिर भी काटने लगे, तो शिव ने उन्हें दर्शन दिए और पराक्रमी होने का वरदान दिया। माना जाता है कि रावण ने शिव तांडव स्तोत्र की रचना की थी। यह भक्ति का एक बहुत ही अनूठा उदाहरण है। भला शिव के ऐसे परम भक्त का पुतला वहां के लोग कैसे जला सकते हैं!


-चम्पा शर्मा
ravangram, nepal, indonesia, thailand, combodia, sri lanka, kaikasi, vishrwa, mandsour, mandodari, dev bharaman, ella valley, ravana temple

टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…