advt

आसिफा — सईदा हामिद की दो नज़्में | #Asifa

अप्रैल 22, 2018

ख़ौफ़ के मौसम में लिखी गई / आसिफा —  सईदा हामिद | #नज़्म

योजना आयोग की पूर्व सदस्या सईदा हामिद की 

दो नज़्में


आसिफा 

भेड़ें चराते -चराते कहाँ खो गई
किस जंगल में जा बस गई मेरी बेटी
तुमपे मन्नत का दम पढ़ के फूँका
और बांधा
कलाई पे डोरा सर पे रुमाल
फिर दिया तुमको उसकी अमान में
जो है सबका हाफ़िज़ मुहाफ़िज़

और तुम
छलावे की मानिंद पेड़ों में गुम हो गई
जंगली चरिन्दे परिंदे तुम्हारे हमजोली
वह भेंड़ों से भिड़ना और चौकड़ी भरना
सब तुम्हारे रखवाले सब तुम्हारे निगहबाँ
मगर
वो कौन थे
जो शहरों से आये जो कोसों से आये
नाचते रक़्स अफरीतियत का
हवस के पुजारी लड़कियों के व्यापारी
वो बदहाल—ओ—तिश्ना
वो जिस्मों के भूखे
 लगे नोचने
तेरे लिथड़े सरापे को
काटते बांटते ठूंसते।
छोड़ी मंदिर की दहलीज़ पर
 अपनी ग़िलाज़त
और कर गए सब्त
देव स्थल के दीवारो दर पर
मोहर क़त्ल और हवस की


ख़ौफ़ के मौसम में लिखी गई 


इंसानों से डर लगता है
जंगल के खूनख़ार दरिन्दे
एक वार में जिस्म बेजान कर देते हैं
सिर्फ़ जब
कोई उनके बच्चों पर शिकारी नज़र डाले
मगर इंसान
मेरे माबूद मेरे परमेश्वर की बनाई मख़्लूक़
अशरफुल मख़लूक़ात
घिनौनी हवस के पुतले
मेरी अधमरी मासूम बेटी से
अपनी हवस की आग बुझाते हैं
आसिफा
तेरी शरबत से भरपूर आँखें बन गईं
पहले आँसू फिर पत्थर
नोचे हुए तेरे रेश्मी बाल
राक्षस जबड़ों से चबे हुए तेरे शबनम होंठ
पत्थर से चूर तेरी सुराही गर्दन। .........
मुल्क के मुहाफ़िज़ मंदिरों के पुजारी सरकारी कारिंदे
पै दर पै
चीरते फाड़ते निगलते रहे तेरी मासूमियत को
जंगल के ख़ूनख़ार दरिंदे
क़तार दर क़तार
ख़ामोश सर झुकाए रहे
और काले कोट पहने इंसान
इक़्तेदार की कठपुतलियाँ
इंसानियत को सर -ए -बाज़ार नंगा करते रहे

Syeda Saiyidain Hameed is an Indian social and women's rights activist, educationist, writer and a former member of the Planning Commission of India.
००००००००००००००००

टिप्पणियां

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…