December 2012 - #Shabdankan
#Shabdankan

साहित्यिक, सामाजिक ई-पत्रिका Shabdankan


न्याय - शब्दांकन (डॉ० अजय जनमेजय)

Monday, December 31, 2012 1
बाजों के फिर मुंह लगा ,इक चिडिया का खून | लेकिन पूरे देश में ,जागा एक जुनून || फिर चिड़िया की ज़िन्दगी ,लूट ले गए बाज | पहरेदारों को म...
और आगे...

न्याय - शब्दांकन (प्रो० चेतन)

Monday, December 31, 2012 2
कि सुखनवरों का खून क्यूँ कर ठण्डा हो गया है दर्द अंगड़ाई नहीं लेता ये क्या हो गया है ? क़त्ल या हो कोई बे-आबरू तुम्हें क्या मतलब ? ए ख...
और आगे...

सियासी भंवर : भरत तिवारी

Friday, December 28, 2012 1
किस हद्द तक राजनीति ग्रसित लोगों के बीच आज का अवाम रह रहा है. हमें लगता रहा कि कद्दावर नेताओं से शुरू हो कर, बीच में धार्मिक आदि रास्तो...
और आगे...

डॉ. रश्मि - दो लघुकथाएँ

Thursday, December 27, 2012 1
चिड़ियाँ खुले आसमान में चिडियों का एक झुंड इठला रहा था. मस्ती में उड़ान भरती चिडियों के मन में उमंगें थीं कि, 'मैं उस आसमान क...
और आगे...

मणिका मोहिनी की तीन बेहतरीन गज़लें

Wednesday, December 26, 2012 0
मणिका मोहिनी एक प्रसिद्ध कहानीकार और कवयित्री है । कविता-कहानी की 15 पुस्तकें प्रकाशित, कुछ वर्षों तक ' वैचारिकी संकलन ' हिन्दी...
और आगे...

लेख: कहीं कुछ कमी सी है - प्रेम भारद्वाज

Tuesday, December 25, 2012 0
हे मिंग्वे ने लिखा है- ‘जीवन के बारे में लिखने के लिए जीवन को जीना जरूरी होता है.’  वर्तमान समय में जो रचनाएं आ रही हैं, वे जीवन के किस...
और आगे...

कहानी : प्रेम भारद्वाज : कवरेज एरिया से बाहर

Monday, December 24, 2012 3
जनसत्ता के दीवाली साहित्य विशेषांक 2012 में प्रेम भारद्वाज की कहानी "कवरेज एरिया से बाहर" प्रकाशित हुई है। कहानी चर्चा में है ...
और आगे...

#Shabdankan

↑ Grab this Headline Animator