advt

सियासी भंवर : भरत तिवारी

दिस॰ 28, 2012
किस हद्द तक राजनीति ग्रसित लोगों के बीच आज का अवाम रह रहा है. हमें लगता रहा कि कद्दावर नेताओं से शुरू हो कर, बीच में धार्मिक आदि रास्तों से हो कर, ये बात छुटभैये नेताओं पर खत्म हो जाती है. हम सब ने अपनी अपनी वैचारिक्तानुसार इस से निपटना भी सीख लिया और इसे “राजनीतिक समझ” का नाम दे दिया. इस समझ का कोई सरोकार पढाई से नहीं है, ये हमें बचपन में ही इतिहास के अध्यापक ने, अकबर पढ़ा कर समझा दिया था. लेकिन हमने इसे पूरी तरह सच नहीं माना और ये नज़र भी आता है जब कोई धर्मगुरु , वैज्ञानिक , अर्थशास्त्री वगैरह, हमारी राजनीती में प्रखर रूप में नज़र आता है.
फ़िर हमें मिले वो, जो हमारी राजनितिक समझ को बढ़ाने के लिये आये , जिन्होंने हमें बताया कि देखिये अमुख जिसे आप ऐसा नहीं मानते हैं वो भी राजनीति कर रहा है, वो साक्ष्यों को सामने रखता गया और हम इस बात को लेकर खुश हुए कि कोई रहनुमा मिला. अलग अलग क्षेत्रों में हमें नए नए रहनुमा मिलते रहे और हमें उस क्षेत्र में होने वाली राजनीति से अवगत कराते रहे. मसलन फिल्मों के क्षेत्र में, जहाँ हमें सिर्फ़ अदाकारी और उससे जुड़ी अन्य बातों से सरोकार था, रहनुमा ने बताया कि ‘स्लम डॉग’ अच्छी नहीं है , छवि खराब करती है, हमने बगैर ये पूछे कि किस छवि की बात करी जा रही है , सच मान लिया. समय समय पर ये रहनुमा प्रकट होते रहते हैं और हमारी समझ को दुरुस्त करते हैं. 

अब बात ये है कि ये विलुप्त क्यों हो जाते हैं ? ये हमने कभी सोचा ही नहीं. गलत. हमें इतना वक़्त ही नहीं दिया जाता कि हम ये सवाल पूछ सकें. अब सवाल ये कि हमारा वक्त हमारी सोच (राजनीतिक-समझ) कौन नियंत्रित कर रहा है . यही बड़ा और अनुत्तरित प्रश्न रहा है   

तमाम देश जब दिल्ली में हुए सामूहिक बलात्कार से दुखी हो , इण्डिया गेट पर पुलिस की लाठियाँ खा रहा था , उस समय ये सारे के सारे रहनुमा नदारद थे. हमने अपनी समझ का प्रयोग (शायद पहली बार) किया और किसी भी मोड़ पर हमें इनकी कमी महसूस नहीं हुई. और बड़े प्रश्न का उत्तर तब मिला , जब इनके परोक्ष या अपरोक्ष रूप से प्रकट होते ही, हम करोणों की समझ को गलत ठहराया गया. 

यहाँ हमारा इन रहनुमाओं की बात ना सुनना और इन्हें दरकिनार करना, बता रहा है कि इनकी पोल खुल गयी है, कि हमारी सोच पर इनका नियंत्रण था, कि ये भी उसी गन्दी राजनीति का हिस्सा हैं, जिनको सिर्फ़ कुर्सी और पैसे का लालच है. 

उम्मीद है कि अब अपनी समझ को हम, रहनुमाओं की बात सुन कर, बगैर सोचे समझे नहीं बदलेंगे. 


भरत तिवारी, पेशे से इंटीरियर डिज़ाइनर, पत्र पत्रिकाओं में कविता, गज़ल व लेखों आदि का सतत स्वतंत्र लेखन.   संपर्क : B-71, शेख सराय फेज़- 1, नई दिल्ली, 110 017. 011-26012386 ई०मेल bharat@tiwari.me

जनसत्ता , २८ दिसम्बर २०१२ , से साभार  http://epaper.jansatta.com/c/627699

टिप्पणियां

  1. Sabse pahle hum sab zimmedaar hain us soch ke liye, jo aurat ko nichle darje ka insaan samajhtee hai, aur unke khilaaf huyee har hinsa ke liye swayam unheen ko zimmedaar thahraatee hai. Neta, qaanoon aur adaalaten to hum khud hee hain.. Hum kab tak apnee zimmedaaree se bhagte rahenge?

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…