advt

अंधेरो से निकाल कर स्त्री ही देगी एक कंदील - गीताश्री

जून 19, 2013
जब ढ़ह रही हों आस्थाएं 
जब भटक रहे हों रास्ता 
तो इस संसार में एक स्त्री पर कीजिए विश्वास 
वह बताएगी सबसे छिपाकर रखा गया अनुभव
अपने अंधेरों में से निकाल कर देगी वही एक कंदील 
-कुमार अंबुज
Bindiya July 2013 - Editorial Geeta Shree


     अन्तत: सारे मर्द एक जैसे होते हैं, चाहे बलिया के पांडेय जी हों या गोरखपुर के गुप्ता जी, पटना के सिन्हा जी, लखनऊ के मिश्रा जी, दिल्ली के खन्ना जी या फिर रुस जैसे देश के राष्ट्रपति पुतिन।

     एक घटना ने इस जुमले को सही साबित कर दिया। वह(ल्यूडमिला) बेबाक थी और वह (पुतिन) चाहते थे उसकी चुप्पी। जैसे कि ज्यादातर मर्द अपनी पत्नियों से चाहते हैं। एक बेबाक स्त्री या तो शिकंजे में रहती हैं या संदेह के घेरे में रहती है। पतियों को हजम नहीं होती, बोलती हुई अधीनस्थ स्त्री। दिमागी स्त्री के संकट कम नहीं। फिर भुगतेगा कौन। सबसे पहला आक्रामणकारी, दमनकारी होता है पति। बाप, भाई के साये से बच कर निकली हुई स्त्री अपने साथी के दम पर कुंलाचे भरना चाहती है कि नुकीले पंजे उसकी गर्दन में चुभ जाते हैं। ल्यूडमिला के साथ भी यही हुआ।

     क्या फर्क है बाकी मर्दो और पुतिन में। हैरानी होती है कि घटिया चाल चलन वाले पुतिन को भी अपनी बेबाक पत्नी से सच्चरित्रता की उम्मीद थी। जासूसी में माहिर पुतिन ने अपनी पत्नी की जासूसी भी शुरु कर दी थी। पहले जिस लड़की के प्यार में दीवानो की तरह पड़े, उसे हासिल करने के लिए तमाम हथकंडे अपनाएं, शादी होते ही वही स्त्री संदिग्ध कैसे हो गई। कहां चली गई दीवानगी। कैसे भूल गए कि इसी प्यार को पाने के लिए कितने पापड़ बेले तब जाकर ल्यूडमिला उन्हें मिली थीं। ज्यादातर स्त्रियां जो करती हैं, वही ल्यूडमिला ने भी किया था। कुछ औरतें अपने नाम के साथ एक किलोमीटर लंबा पति का नाम जोड़ लेती हैं वहीं पुतिन के प्रेम में पड़ कर ल्यूडमिला ने अपना नाम पुतिना कर लिया था। इस प्रेम ने उन्हें क्या दिया। 30 साल लंबी कैद। एक रिश्ते से निकलने में उन्हें इतने साल लगे। आजीवन कारावास से भी लंबी सजा के बाद रिहाई। कहते हैं कि जब तलाक की घोषणा हुई तो ल्यूडमिला के चेहरे पर बंदीगृह से बाहर आने वाले इनसान के से भाव थे। चेहरे पर कोई शिकन तक नहीं। एक लेखिका की बात याद आ रही है। जब वे अपने गांव के दौरे पर गईं तो वहां पहले से ज्यादा विधवाएं और तलाकशुदा औरतें दिखीं। लेखिका को हैरानी हुई कि वे औरतें पहले से ज्यादा सेहतमंद थीं और बेफिक्र भी। ना कोई खौफ ना कुछ खो जाने का मलाल। शायद उनके लिए विवाह एक यातना-गृह की तरह था।

अब्राहम लिंकन का कथन याद करें कि विवाह न तो स्वर्ग है न नर्क, वो तो सिर्फ एक यातना है।

     ल्यूडमिला इस लंबी यातना से मुक्ति के बाद चैन की सांस लेती हुई वह फिर वापस अपनी दुनिया में लौट गईं। जिस प्यार ने उन पर डोरे डाले, उन्हें गुलाम बनाया, उन्हें बदलने की काशिश की, जैसी कोशिशे आम भारतीय घरो में की जाती है, पतियों के द्वारा। ये कोशिश बेहद क्रूर और हिंसक होती है, जहां एक स्त्री की मौलिकता को अपने सांचे में ढालने की कवायद की जाती है। स्त्रियों की बेबाकी से डरने वाले मर्दो को अभी तक गूंगी गुड़िया की चाहत बरकरार है। सब जानते हैं कि मर्द दूध के धुले नहीं हैं फिर भी पत्नी शक के घेरे में है आज। हौलीवुड की असाधारण नर्तकी-अभिनेत्री इजाडोरा डंकन ने अपनी आत्मकथा में वैवाहिक जीवन की त्रासदी के बारे में स्पष्ट लिखा है कि विवाह संस्था की नियम-संहिता को निभा पाना किसी भी स्वतंत्र दिमाग की स्त्री के लिए संभव नहीं है। ये अलग बात है कि उन्हें निभाना पड़ता है। निभाने वाली स्त्रियों ने इस दुख को खुद चुना है डेविड म्यूरर ने कहा है कि सफल विवाह वह है जिसमें पति पत्नी एक दूसरे के मतभेदो में खुशी ढूंढ लेते हैं। लेकिन कुछ मुल्को में तो मतभेद तक की इजाजत नहीं होती। हां में हां मिलाते रहो तो विवाह सफल, ना मिलाया तो रास्ते अलग या बंदीगृह में जिओ।

     कई आधुनिक स्त्रियों के लिए उनका घर बंदीगृह सरीखा है। अपने समय (1878-1927) में अविवाहित इजाडोरा डंकन, विवाह के खिलाफ, स्त्रियों की दशा सुधारने के लिए जब हुंकार भर रही थी, उसी दौरान उन्होंने मां की विवाहित सहेलियों के चेहरे जुल्म और दास्तां के निशान देखें। ये निशान आज भी विकासशील मुल्को की स्त्रियों के चेहरे पर मौजूद हैं। गौर से देखिए तो सही।

     ये सब लिखते हुए कई कारणो से मन भारी है। हादसे हैं कि हमारा पीछा नहीं छोड़ते। विमर्शो, बहसो, मोर्चो, आंदोलनो, कैंडिल मार्चो और कानूनो के बावजूद।

     प्रीति राठी जैसी मासूम, निरपराध लड़कियों के चेहरे पर तेजाबी हमले अब तक जारी है। आखिर प्रीति अब नहीं रही। कल तक वह हमारे बीच थी। जिया खान ने भी खुदकुशी कर ली। एक तो बिल्कुल निपराध थी, दूसरी ने प्रेम करने का दुस्साहस किया था। बदले में दोनों को मिली पीड़ादायी मौत जो हमें गहरे स्तब्ध करती है। इन दोनों का होना, हमारे बीच एक सपने का होना था। उनका होना, हमारे बीच एक मिशन का होना था। उनका होना, हमारे बीच एक साहस-संकल्प का होना था। उनका होना, एक संभव-संभावना का होना था। क्या था प्रीति का गुनाह। क्या था जिया खान का गुनाह। ये दो संभावनाओं से भरी लड़कियां कई सवाल अपने पीछे छोड़ गई हैं।

     बहरहाल, अब कुछ और बाते कर लें। इन्हीं अंधेरो से स्त्रियां ही मर्दो को कंदील देंगी उजाले के लिए। बस रिश्तो में विश्वास बचाए रखना जरुरी है।

     उम्मीद है आपकी छुट्टियां मजे में कटी होंगी, घूमते फिरते, रिश्तेदारो से मिलते मिलाते..।

     भीड़ से अलग अपनी पहचान बनाने वाली आपकी प्रिय पत्रिका बिंदिया हाजिर है, नई और दिलचस्प सामग्री लेकर, हमेशा की तरह। आपने बिंदिया को बदलते हुए देखा और सराहा है। आपके पत्रों और फोन कौल्स ने हमें अहसास कराया कि हम कुछ लीक से हटकर काम कर रहे हैं। हल्की फुल्की समाग्री के साथ कुछ बौध्दिक खुराक भी आपको मिले, यही कोशिश रही है।

आपके स्नेह की नरमाई फिर मिलेगी...इसी उम्मीद के साथ विदा।

आपकी गीताश्री
(सम्पादकीय: 'बिंदिया' जुलाई २०१३) 
शब्दांकन शीघ्र ही बिंदिया का सदस्यता प्रपत्र  आप तक pahunchayegi, इस बीच यदि आप बिंदिया के सदस्य बनाना चाहें तो हमें  sampadak@shabdankan.comपर ईमेल कर सकते हैं

भरत तिवारी

टिप्पणियां

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…