February 2014 - #Shabdankan
#Shabdankan

साहित्यिक, सामाजिक ई-पत्रिका Shabdankan


कहानी: विसर्जन से पहले - सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक' | Hindi Kahani by Suresh Chandra Shukla 'Sharad Alok'

Friday, February 28, 2014 1
विसर्जन से पहले सुरेशचन्द्र शुक्ल 'शरद आलोक'  प्रवासी दुकानों पर अभी भी अंतिम संस्कार का सामान आना शुरू नहीं हुआ है. शायद ...
और आगे...

चेस्टिबिटी बेल्ट - गीताश्री Chastity Belt - Geetashree

Wednesday, February 26, 2014 2
ऐसा तो नहीं कि मर्दवादी मानसिकता से लड़ते लड़ते हम खुद उसके शिकार हो गए हैं पहले लड़कियों की ड्रेस को लेकर, फिर उसकी देह को लेकर और अब ...
और आगे...

रंडागिरी - कहानी: विभा रानी : Hindi Kahani Randagiri by Vibha Rani

Tuesday, February 25, 2014 7
रंडागिरी  -विभा रानी  ‘अपुन को तो ये अक्‍खा दुनिया ही रंडा नजर आती है। अपुन रंडी, वो रंडा! अपुन की रंडीगिरी तो उनका रंडागिरी!’ डिम...
और आगे...

राकेश कुमार सिंह की कविता "पत्थर भी पहचान लिया करती थी" Poetry: Rakesh Kumar Singh

Friday, February 21, 2014 1
राकेश कुमार सिंह की कविता "पत्थर भी पहचान लिया करती थी" ऐ समन्दर, सुनो, एक बात सुनो सोच रहा हूं बहुत लिपटे हैं तुमसे मैं...
और आगे...

साहित्य मंच पर तिनका तिनका तिहाड़ Tinka Tinka Tihar on Literary Platform (Vartika Nanda)

Thursday, February 20, 2014 0
साहित्य मंच पर तिनका तिनका तिहाड़ फरवरी 20, 2014, तिनका तिनका तिहाड़ की गूंज आज प्रगति मैदान में खूब सुनाई दी।  अवसर था - ऩई दिल्ली विश्...
और आगे...

विमलेश त्रिपाठी की कविताएं | Poetry : Vimlesh Tripathi

Wednesday, February 19, 2014 1
कोलकाता में रहने वाले विमलेश त्रिपाठी , परमाणु ऊर्जा विभाग के एक यूनिट में सहायक निदेशक (राजभाषा) के पद पर कार्यरत हैं। इनका जन्म बक्सर, ब...
और आगे...

तीन लघु कथाएँ और तीन सन्देश - प्राण शर्मा Three Short Stories of Pran Shama

Wednesday, February 19, 2014 3
१३ जून १९३७ को वजीराबाद में जन्में, श्री प्राण शर्मा ब्रिटेन मे बसे भारतीय मूल के हिंदी लेखक है। दिल्ली विश्वविद्यालय से एम ए बी एड प्रा...
और आगे...

लालित्य ललित की चुनिंदा कविताएँ : Selected Poems of Lalitya Lalit

Tuesday, February 18, 2014 2
गांव का खत: शहर के नाम  उस दिन डाकिया बारिश में ले आया था तुम्हारी प्यारी चिट्ठी उसमें गांव की सुगन्ध मेरे और तुम्हारे हाथों की ग...
और आगे...

विजय चौक लाइव (उपन्यास अंश) - शिवेंद्र कुमार सिंह | Vijay Chowk Live (Novel excerpts) - Shivendra Kumar Singh

Sunday, February 16, 2014 0
चौबे जी ने आव देखा ना ताव- रख कर दिया एक थप्पड़ सीधे दाहिने गाल पर। अब तो माहौल बिल्कुल ही बदल गया। वेब टीम का रिपोर्टर एक सेकंड के लिए त...
और आगे...

रवीश की रपट - चुनाव तो हो चुका है | Ravish Ki Rapat - The election is over

Sunday, February 16, 2014
चुनाव तो हो चुका है रवीश की रपट लोगों के बीच घूमने से पता चलता है कि हवा का रुख़ क्या है । अब लगभग यह स्थापित होता जा रहा है कि नरेंद...
और आगे...

#Shabdankan

↑ Grab this Headline Animator