July 2014 - #Shabdankan
#Shabdankan

साहित्यिक, सामाजिक ई-पत्रिका Shabdankan


वचन सुनत नामवर मुसकाना - अनंत विजय | Happy Birthday Prof. Namvar Singh - Anant Vijay

सोमवार, जुलाई 28, 2014 1
वचन सुनत नामवर मुसकाना अनंत विजय              नामवर सिंह का विरोध करनेवालों को                यह भी सोचना चाहिए कि              ...
और आगे...

माता पिता महंगी किताबें देने से कतराते हैं - गुलज़ार / Parents Shy Away From Giving Expensive Books - Gulzar

सोमवार, जुलाई 28, 2014 0
वाणी न्यास की स्थापना  वाणी प्रकाशन 26 जुलाई, 2014, इंडिया इंटरनेशनल सेंटर, नयी दिल्ली। वाणी न्यास की स्थापना तथा वाणी प्रकाशन की ...
और आगे...

बतरा जी के पाठ - क़मर वहीद नक़वी Beginning of Fundamentalist Religious Resurrection - Qamar Waheed Naqvi

सोमवार, जुलाई 28, 2014 0
बतरा जी के पाठ, अच्छे या बुरे दिन!  क़मर वहीद नक़वी  राग देश 1972 का काबुल इतिहास गवाह है कि कट्टरपंथी धार्मिक पुनरूत्थान क...
और आगे...

आकांक्षा पारे काशिव - शिफ्ट+कंट्रोल+ऑल्ट=डिलीट (राजेन्द्र यादव हंस कथा सम्मान 2014) Rajendra Yadav Hans Katha Samman to Akanksha Pare

रविवार, जुलाई 27, 2014 0
रोबोट इंसानों की तरह बनाए जा रहे हैं और इंसान  रोबट बनता जा रहा है।  रोबोट इंसान की तरह लगें इसके लिए दुनिया भर में नए-नए प्रयोग...
और आगे...

कृष्ण बलदेव वैद फैलोशिप प्रत्यक्षा और प्रभात रंजन को / Krishna Baldev Vaid Fellowship 2013, 2014 to Pratyaksha and Prabhat Ranjan

शनिवार, जुलाई 26, 2014 0
वर्ष २०१३ और २०१४ की कृष्ण बलदेव वैद फैलोशिप युवाकथाकर प्रत्यक्षा और प्रभात रंजन को दी जाएगी। वैद फैलोशिप के निर्णायक श्री अशोक वाजपे...
और आगे...

वाणी प्रकाशन शुरू करेगा 'वाणी न्यास' Vani Prakashan to start 'Vani Foundation'

शुक्रवार, जुलाई 25, 2014 0
वाणी प्रकाशन अपनी स्थापना के 50 वर्ष पूरे होने पर 26 जुलाई 2014 को स्थापना दिवस मना रहा है। इसी अवसर वाणी न्यास की स्थापना की घोषणा भी की ...
और आगे...

उपन्यास वह बला है, जिसमें हम अपनी रज़ामंदी से हलाक होते हैं, दूसरों के हाथों - मृदुला गर्ग | How Miljul Man was Writen - Mridula Garg

मंगलवार, जुलाई 22, 2014 0
                      उपन्यास लिखना,                                     निजी ज़िन्दगी को                                              ...
और आगे...

गीताश्री: कहानी - एक रात ज़िंदगी | Ek Raat Zindagi - Hindi Kahani - Geetashree

सोमवार, जुलाई 21, 2014 0
ह र शहर में अकेली औरतो का एक झुंड होता है जो एक वृत्त बनाकर एक दूसरे के साथ जीती मरती हैं। उनके लोक में किसी के ब्यायफ्रेंड की घोषणा किसी ...
और आगे...

#Shabdankan

↑ Grab this Headline Animator

लोकप्रिय पोस्ट