August 2015 - #Shabdankan
#Shabdankan

साहित्यिक, सामाजिक ई-पत्रिका Shabdankan


मैत्रेयी पुष्पा को रचना यादव का जवाब | Rachana Yadav's reply to Maitreyi Pushpa

Monday, August 31, 2015 2
राजेन्द्र यादव का सहारा लेकर बहुतों ने यश कमाया  ~ रचना यादव राजेन्द्र जी के जन्मदिन पर फेसबुक पर अपना बयान लिखते समय मैत्रेयी जी क...
और आगे...

युवा, हिंदी अकादमी और मैत्रेयी पुष्पा - अनंत विजय | Anant Vijay on Maitreyi Pushpa Controversy

Sunday, August 30, 2015 1
कहीं ऐसा तो नहीं कि युवा कहकर युवाओं से जुड़ने की जुगत में लेखक खुद को या आयोजक लेखक को या आलोचक लेखक को युवा घोषित कर देता है ? ~ अ...
और आगे...

रवीश कुमार सही में दलाल है - रवीश कुमार | Ravish Kumar sahi me dalal hai

Sunday, August 30, 2015
कई पार्टियों का दलाल तो बता ही दिया गया हूँ फिर भी उन्हीं बताने वालों को मुझी से उम्मीद रहती है कि सभी मुद्दों पर चर्चा कर या स्टेटस ल...
और आगे...

राजेन्द्र यादव हिंदी के आखिरी सार्वजनिक बुद्धिजीवी - अनंत विजय | Rajendra Yadav : The Last Public Intellectual of Hindi

Saturday, August 29, 2015 0
साहित्य स्पांटेनियटि  का गेम है स्पांसरशिप का नहीं -  राजेन्द्र यादव आज अगर समकालीन हिंदी साहित्य के परिदृश्य में एक अजीब तरह का ठंड...
और आगे...

कहानी: छोटे-छोटे ताजमहल - राजेन्द्र यादव | Rajendra Yadav's Kahani 'Chhote-Chhote Tajmahal'

Friday, August 28, 2015 2
छोटे-छोटे ताजमहल ~ राजेन्द्र यादव 'चार-पाँच साल हो गए होंगे उस बात को... ‘ उसके मन के भीतरी स्तरों पर पत्र चलता रहा।  वह ब...
और आगे...

हैप्पी बर्थडे राजेन्द्रजी | Happy Birthday Rajendra Yadav Ji

Friday, August 28, 2015 0
राजेन्द्र जी के लिए  - भरत तिवारी तूम  वो  मिट्टी  हो,  बने भगवान  जिससे होते   हों   पूरे   कठिन   अरमान  जिससे भूलना  ...
और आगे...

राजेन्द्रजी अपने दुर्भाग्य से और हम लोगों के सौभाग्य से दिवंगत हुए हैं - सुशील सिद्धार्थ

Friday, August 28, 2015 0
राजेन्द्रजी अपने दुर्भाग्य से और हम लोगों के सौभाग्य से दिवंगत हुए हैं - सुशील सिद्धार्थ ००००००००००००००००
और आगे...

🏲 जब तक यह व्यक्ति जीवित है - रूपसिंह चन्देल | Roop Singh Chandel on Rajendra Yadav

Thursday, August 27, 2015 0
जब तक यह व्यक्ति जीवित है... रूपसिंह चन्देल संस्मरण राजेन्द्र यादव  और  रूप सिंह चंदेल की यादें अप्रैल ०४,१९८७... शनिवार...
और आगे...

फिल्म समीक्षा: माझी / ऑल इज वेल | Movie Review: Manjhi / All is Well | दिव्यचक्षु

Thursday, August 27, 2015 0
एक पहाड़तोड़ की शौर्यकथा और  प्रेमगाथा  ~ दिव्यचक्षु माझी - द माउंटेन मैंन निर्देशक - केतन मेहता कलाकार - नवाजउद्दीन सिद...
और आगे...

कहानी: लखि बाबुल मोरे - आकांक्षा पारे | Kahani ' Lakhi Babul More' - Akanksha Pare

Monday, August 24, 2015 0
लखि बाबुल मोरे ~ आकांक्षा पारे मैं अपना वाक्य पूरा करती इससे पहले खरजती आवाज ने सूचना दी कि उनका बिल बन रहा है वह अपने जाने की तै...
और आगे...

#Shabdankan

↑ Grab this Headline Animator