advt

लघुकथा — खेल बनाम साहित्य — रमेश यादव Laghu Katha in Hindi

मार्च 3, 2017


Laghu Katha in Hindi 

Sports Vs Literature : Ramesh Yadav

Sports Vs Literature : Ramesh Yadav


मुंबई के आपा-धापी भरे जीवन में भी किसी तरह लोग अपने लिए थोड़ा सा जीवन तो चुरा ही लेते हैं। कुमार टिपिकल मुंबईया के साथ-साथ एक प्रोफेशनल बैंकर भी है। लिखना उसका पैशन है। वह अखबार का इंतजार कर रहा था। आज उसे किसी खास न्यूज का इंतजार था। अखबार मिलते ही पन्ने पलटते हुए सरसरी नजर से उस लंबी लिस्ट में उसने अपना नाम ढूँढ ही लिया। “थँक्यू ग़ॉड” कहते हुए उसने अखबार चूम लिया। उसके खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा। उसके उपन्यास को राज्य साहित्य अकादमी का प्रथम पुरस्कार घोषित किया गया था।



बगल में छपी एक और न्यूज कुमार को आकर्षित कर रही थी, क्रिकेट खिलाडी़ व्यंकटेश को नॅशनल अवार्ड मिलने पर उसके बैंक ने उसे प्रमोट करके मॅनेजर बना दिया था, ताकि वह और समर्पित भावना से खेलता रहे और बैंक का नाम रोशन करता रहे।

पुरस्कार मिलते ही वह अपने बैंक के महाप्रबंधक से मिलने गया। केबिन के सामने मिठाई, फोटो और न्यूज लेकर वह अपनी बारी का इंतजार करता रहा। सामने एक बडी़-सी तस्वीर लगी थी, जिसमे साहब “सी।एम।डी।” से पुरस्कार लेते हुए मुस्कुरा रहे थे। बगल में एक पोस्टर लगा था - मुंबई सर्कल ने इस वर्ष पाँच लाख करोड़ का बिजनेस टारगेट पूरा कर लिया। टारगेट पूरा करने पर प्रमोशन तो तय था। साथ ही इंस्यूरेंस व्यापार पर कमीशन और विदेश टूर अलग से। खैर..........! यह सोचते हुए कुमार अंदर गया और अपनी सबसे प्रिय खबर साहब को सुनाई साथ ही मिठाई आगे कर दी।

साहब ने “कॉग्रेट्स” करते हुए पूछा, “व्हाट इज धीस साहिट्य अकादेमी ? इज इट हिन्दी अवार्ड ?” कुमार ने समझाया, न्यूज और फोटो भी दिखाया। “ओह दॅट मिन्स यू आर अ राइटर ? आर यू रायटिंग इन बैंकिंग आवर आल्सो ?” “नो सर, नॉट एट आल, लिखना इतना आसान काम नहीं होता। इट्स नॉट पासिबल सर !” कुमार ने जवाब दिया। साहब की इस सोच पर उसे तरस आ गई। “ वेदर बैंक इज गोइंग टू गेट एनी बेनीफिट्स फ्रॉम धीस ?” कुमार को लगा जैसे किसी ने उसे तमाचा जड़ दिया हो ! पर अपने को संभालते हुए किसी तरह से उसने साहब को समझाया, “ सर, राज्य स्तर का यह बड़ा ही अहम और सम्मानजनक पुरस्कार है, जो जीवन में शायद ही कभी–कभार मिलता है। मेरे इस पुरस्कार से बैंक का भी नाम रोशन हुआ है सर”। मगर साहब के चेहरे पर कोई खास प्रभाव दिखाई नहीं दिया। मुँह फेरकर वे फाइलों में पुन: व्यस्त हो गए।

कुमार चलने लगा, अचानक वह मु्ड़कर बोला, “सर ! साहित्य और संस्कृति को लेकर प्रोत्साहन, पदोन्नति, विशेष छुट्टी, जैसी कोई गाईडलाइन सरकारी, अर्ध सरकारी महकमों में नहीं है, जो कि खिलाड़ियों को प्राप्त हैं। अन्यथा आप इस तरह से पेश नहीं आते ! राष्ट्र और राज्य के उत्थान में साहित्य और संस्कृति का भी बड़ा अहम योगदान होता है। साहित्य से जुड़े कर्मचारी अपनी नौकरी की जिम्मेदारियों को संभालते हुए देश, दुनिया, समाज, और अपनी संस्था का नाम तो रोशन करते ही हैं, साथ ही समाज को दिशा देते हैं, और आईना भी दिखाते हैं। इस पुरस्कार ने बैंक के लिए इमेज बिल्डिंग का काम किया है, जिसके लिए बैंक करोड़ो रुपए खर्च करती है। आप इस बात को नहीं समझेंगे ! या फिर समझना नही चाहते सर ! मगर एक दिन ऐसा जरूर आयेगा जब आप जैसे लोगो को अपनी इस सोच को बदलनी पड़ेगी। एक दिन हिंदी की कलम भी जागेगी जो अपना अधिकार लेकर रहेगी। और केबिन का दरवाजा खोलकर कुमार सीधे बाहर निकल गया।

रमेश यादव
481-161 – विनायक वासुदेव एन.एम. जोशी मार्ग,
चिंचपोकली – पश्चिम ,
मुंबई- 400011
फोन- 09820759088
(ये लेखक के अपने विचार हैं।)
००००००००००००००००

टिप्पणियां

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…