advt

गरुड़ की मुक्ति | Best Books of Devdutt Pattanaik | देवदत्त पटनायक

मई 9, 2017


पशु: पुराणों से पशु-पक्षियों की रोचक कथाएं Best Books of Devdutt Pattanaik

देवदत्त पटनायक



Best Books of Devdutt Pattanaik

गरुड़ की मुक्ति 

Best Books of Devdutt Pattanaik Photo Bharat Tiwari
विनता का पुत्र होने के नाते गरुड़ दास बनकर पैदा हुआ था, क्योंकि उसकी माँ नागों की दासी थी। गरुड़ ने अपने स्वामियों से पूछा कि वह किस तरह अपने को मुक्त करा सकता था। नागों ने कहा, ‘‘हमें अमृत लाकर दे दो और तुम मुक्त हो जाओगे।’’ सो गरुड़ स्वर्ग की ओर उड़ा और उसने देवताओं की नगरी, अमरावती पर हमला कर दिया। गरुड़ ने देवराज इन्द्र को हराकर अमृत का कलश प्राप्त कर लिया। इन्द्र ने कहा, ‘‘अमृत नागों के लिए नहीं है। इसे मुझ को लौटा दो, मैं तुम्हें एक वर दूँगा।’’

गरुड़ ने कहा, ‘‘मुझे यह अमृत नागों के पास लेकर जाना ही होगा ताकि मैं अपनी माँ और खुद को दासत्व से मुक्त करा सकूँ। लेकिन मैं इसे वापिस ले आऊँगा और यह सुनिश्चित करूँगा कि नागों को इसका एक घूँट भी न मिले।’’

इन्द्र ने कहा, ‘‘अगर तुम ऐसा करने में सफल हो गये तो मैं तुम्हें मनचाहा वरदान दूँगा।’’

गरुड़ धरती पर वापस आ गया और अमृत के घट के साथ नागों के पास जाकर बोला, ‘‘मैं इसे तभी तुमको सौंपूँगा जब तुम मुझे और मेरी माँ को दासत्व से मुक्त कर दोगे।’’

नागों ने कहा, ‘‘ऐसा ही होगा। हम तुम्हें और तुम्हारी माँ को मुक्त करते हैं।’’


गरुड़ ने अमृत का घड़ा धरती पर रख दिया। जैसे ही नाग उस कलश की ओर बढ़े, गरुड़ ने कहा, ‘‘इस दैवी पदार्थ को पीने से पहले नहाना या कम-से-कम कुल्ला करके मुँह साफ करना ज़रूरी माना गया है।’’

नागों ने उसकी बात मान ली और डुबकी लगाने के लिए नदी की तरफ लपके। जिस बीच वे गये हुए थे, कलश अरक्षित रखा हुआ था। उसी समय इन्द्र उतरे और कलश को वापस अमरावती ले गये।

रामराज्य में हंसना मना था ! — देवदत्त पटनायक

जब नाग लौटकर आये और उन्होंने देखा कि कलश वहाँ नहीं है, तो उन्होंने क्रोधित होकर गरुड़ से पूछा,  ‘‘तुमने इन्द्र को रोका क्यों नहीं?’’

‘‘अच्छा,’’ गरुड़ ने कहा, ‘‘तो मुझे अमृत की रखवाली भी करनी थी? मगर मैं अब तुम लोगों का दास तो रहा नहीं। याद करो, तुमने मुझे मुक्त कर दिया था।’’
नाग अपना-सा मुँह लेकर रह गये। वे जानते थे कि गरुड़ सही कह रहा था। वे कुछ नहीं कर सकते थे। वे अमृत चखने का मौका खो चुके थे। हताश होकर वे घास के उन तिनकों पर लोटने लगे जिन पर अमृत का कलश रखा हुआ था। नतीजे के तौर पर उन्हें अपनी केंचुली उतारने की जादुई शक्ति मिल गयी, जिसके बाद उन्हें फिर नयी चमड़ी मिल जाती है। इससे यह पक्का हो गया कि वे कभी बूढ़े नहीं होंगे।

फिर गरुड़ इन्द्र के पास अपने वरदान के लिए गया। ‘‘बोलो, क्या इच्छा है तुम्हारी?’’ इन्द्र ने पूछा। गरुड़ ने जवाब दिया, ‘‘मैं चाहता हूँ कि सर्प मेरा स्वाभाविक आहार बनें।’’

मोरपंख पहनने से कोई कृष्ण नहीं बनता — देवदत्त पटनायक

‘‘तथास्तु,’’ इन्द्र ने कहा। उस दिन से गरुड़ को हमेशा नागों को अपने तीखे पंजों में पकड़े दिखाया जाता है। किसी समय वह उनका दास था, अब उनका भक्षक है।

फिर विष्णु गरुड़ से मिले और उन्होंने पूछा, ‘‘तुमने खुद अमृत क्यों नहीं पिया?’’

गरुड़ ने जवाब दिया, ‘‘वह मेरा नहीं था, उसे पीना चोरी होती। मैं तो वही कर रहा था जो मेरे पूर्व स्वामी चाहते थे कि मैं करूँ, क्योंकि मैं उनका दास था।’’

गरुड़ की इच्छा-शक्ति और निष्ठा से प्रसन्न होकर विष्णु ने कहा, ‘मैं चाहता हूँ कि तुम मेरे वाहन बनो। मैं तुम पर सवार होकर युद्ध में जाया करूँगा।’

‘‘ठीक है,’’ गरुड़ ने कहा, ‘‘मुझे स्वीकार है लेकिन मैं आपके नीचे तभी रहूँगा, जब आप मुझे अपने ऊपर रखेंगे।’’

देवदत्त पटनायक — असुर एक उपाधि है

उसकी शर्त बहुत न्यायसंगत, मगर पूरी करने में बहुत मुश्किल लगती थी। विष्णु इस शर्त को सुनकर मुस्कुराये और बोले, ‘‘तुम्हारी छवि हमेशा मेरी पताका पर रहेगी। इस तरह तुम सदा मेरे ऊपर भी रहोगे।’’


पुस्तक का नाम - पशु: पुराणों से पशु-पक्षियों की रोचक कथाएं
Best Books of Devdutt Pattanaik
प्रकाशक - राजपाल एण्ड सन्ज़, 1590 मदरसा रोड, कश्मीरी गेट, दिल्ली-6


(ये लेखक के अपने विचार हैं।)
००००००००००००००००

टिप्पणियां

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…