August 2018 - #Shabdankan
#Shabdankan

साहित्यिक, सामाजिक ई-पत्रिका Shabdankan


हमें उन लोगों के साथ खड़े होने की जरूरत है, क्योंकि वे हमारे साथ खड़े रहते हैं #NoMoreFakeCharges

Friday, August 31, 2018 0
उस अंतरराष्ट्रीय जगत को दिखाना चाहते हैं कि हमारे यहां अदालतें हैं और लोगोंं की रक्षा के लिए रात को भी अदालतें खुलती हैं। न्याय ह...
और आगे...

राजेन्द्र यादव की कहानी: गुलाम | #HappyBirthdayRajendraYadav #RajendraYadav

Tuesday, August 28, 2018 0
हिंदी साहित्य में 'नई कहानी' को गढ़ने वाली त्रयी के महान कथाकार राजेन्द्र यादव की कहानी, गुलाम...  रंगे स्यार को राज...
और आगे...

इलाहबाद वाया ममता कालिया : छोड़ आये हम वो गलियाँ — पार्ट 2

Saturday, August 25, 2018 0
छोड़ आये हम वो गलियाँ — पार्ट 2 — ममता कालिया   इलाहाबाद के मटुकनाथ के मुंह पर न तो स्याही मली न ही दूधनाथ की पत्नी निर्मला ने उ...
और आगे...

मधु कांकरिया की नयी #कहानी: जंगली बिल्ली

Thursday, August 23, 2018 0
इस वहशी हिंसक समय ने भक्ति के किसी भी रूप को उसके मूल सुन्दर सच्चेपन से नहीं दूर किया हो, ऐसा लगता नहीं. देशभक्ति भाई सामान मित्र को ह...
और आगे...

#Shabdankan

↑ Grab this Headline Animator