advt

कविताएँ - कल्याणी कबीर

जुल॰ 10, 2013

जनवादी लेखक संघ, अक्षरकुम्भ, सिंहभूम जिला साहित्य परिषद् आदि साहित्यिक मंच की सदस्या कल्याणी कबीर का जन्म बिहार के मोकामा गाँव में ५ जनवरी को हुआ है. कल्याणी, झारखण्ड के जमशेदपुर शहर में अध्यापिका के पद पर कार्यरत है और आकाशवाणी जमशेदपुर में आकस्मिक उद्घोषिका हैं. उनकी कविताओं में नयी मिट्टी का सोंधापन भी है और पुराने बरगद की तरह समाज को देखने की दृष्टि भी. उनकी तीन कविताएँ आपके लिए ...



मेरा अस्त्तित्व

महज कुछ शब्दों की गठरी नहीं है
न ही ये
हो हल्ला मचाने का
एक जरिया भर है
ये है मेरी सोच का हस्ताक्षर - मेरे होने का प्रमाण-पत्र
मेरी जीवन राह है ये - जो हलचल से नहीं डरती
न ही घबराती है
अनवरत जगती रातों से
ये एक रोशनी है जिसकी
छांव मॆं सांस ले रही है सृष्टि सारी
मेरा वजूद
मेरे गर्भ मॆं पल रहे शिशु की तरह है
जो पहचान है मेरे स्त्रीत्व की
और
जिसका जीवित रहना
मेरे जीवित रहने से भी ज्यादा जरूरी है ...

आँचल में बाँध लिया है

कहाँ सहेज पाती हूँ
मैं अपनी याद में तुम्हारी गलतियां
कब मानती हूँ बुरा जब
 बोल जाते हो तुम बुरा अनजाने में

मैंने तो समेट लिया है
अपनी आँखों के सारे ख्वाब
और सजा दिया है उस जगह तुम्हारे नन्हें सपने
सुकूं पाती हूँ जब खींच लेती हैं तेरी
बातें मेरी थकान
थामते हो हाथ तो मिलती है हारी उम्मीदों
को नई उड़ान

तुम्हारी महक, तुम्हारी छुअन से खिलते हैं सतरंगी कमल
मंडराते हो जब इर्द-गिर्द
तो महफूज़ लगते हैं सभी पहर
नज़र आते हो तुम जहाँ तक, वहीँ तक देखते हैं हम
तेरे मुस्कान के मरहम से
हर ज़ख्म सेंकते हैं हम
तुम्हारी फरमाइशों की फेहरिस्त हमने आँचल में बाँध ली है
मेरे बच्चे "तेरे होने" ने घर को गुलशन बना दिया है

सोचती हूँ और ...

डरती हूँ जब हौसलों के चेहरे पर पड़ जायेंगी झुर्रियाँ
   मुझे रोटी के लिए तेरे दर के तरफ देखना होगा
जब बुढापा रुलाएगा कदम दर कदम पे
  तब महफूज़ छत की जरुरत होगी
     मेरी बूढी नींद को
गर दूंगी तेरे हाथों में दवाओं की कोई लिस्ट
  तू भूल
     तो न जाएगा उन दवाओं को खरीदना
अभी तो चूमता है मुझको बेसबब
घड़ी - घड़ी
कहीं तरसेंगे तो नहीं हम
तेरे हाथों के छुअन को
जाने कल के आईने में कैसे दिखेंगे
- हमारे रिश्ते
फिलवक्त तो यही सच है हमारे दरम्यान मेरे बच्चे ...
मेरे जिस्म का
  टुकड़ा तू मेरी जान रहेगा...
मेरे लिए
  हमेशा तू नादान रहेगा ...

टिप्पणियां

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…