दो गज़लें - मूसा खान अशांत - #Shabdankan
#Shabdankan

साहित्यिक, सामाजिक ई-पत्रिका Shabdankan


osr 1625

दो गज़लें - मूसा खान अशांत

Share This

अब  तो  लगता  है  इस  तरह से  जीना होगा
प्यास  लगने  पे  लहू  अपना  ही  पीना  होगा

किसको फुर्सत है की ग़म बाँट ले गैरों का यहाँ
अपने  अश्कों  को  तुम्हे  आप  ही पीना होगा

ये  दरिंदों  का  नगर  है   यहाँ  इन्सान  कहाँ
जीने  वाले  को  यहाँ   ज़हर  भी  पीना  होगा

Mosa khan Ashant Barabankvi मूसा खान अशांत बाराबंकवी

हाथ में  सबके है  खंजर यहाँ  क़ातिल  हैं सभी
ऐ   मेरे  दोस्त  यहाँ   होठों  को  सीना  होगा

सोचता  हूँ  कि  कहाँ  सर  ये  झुकाऊं  ‘मूसा’
किस  जगह  काशी  कहाँ  अपना मदीना होगा



उसके   घर   के  क़रीबतर  होता
तो  मिरा  घर  भी कोई घर होता

उन  हवाओं  से  साँस  भर  लेता
उनका आँचल जिधर जिधर होता

गुनगुनाता   नयी   नयी   ग़ज़लें
वो  मिरी  ज़ीस्त  में  अगर होता

सज  संवर  के निकलते वो बाहर
ईद  का जश्न  अपने   घर होता

आरज़ू   दिल  में  है  यही ‘मूसा’
आपका  दर औ अपना सर होता

मो० मूसा खान अशांत बाराबंकवी
मो० 073 76 255606
ईमेल mmkashant@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

#Shabdankan

↑ Grab this Headline Animator

लोकप्रिय पोस्ट