2014 - #Shabdankan
#Shabdankan

साहित्यिक, सामाजिक ई-पत्रिका Shabdankan


अंधेरे के सैलाब से रोशनी की ओर बढ़ती आत्मकथा - भावना मासीवाल

Wednesday, December 31, 2014 0
समीक्षा अंधेरे के सैलाब से रोशनी की ओर बढ़ती आत्मकथा भावना मासीवाल   आत्मकथा ‘स्व’ का विस्तार है साथ ही स्व से सामाजिक...
और आगे...

कहानी: फ़्लर्टिंग मेनिया - इरा टाक

Saturday, December 27, 2014
कहानी  फ़्लर्टिंग मेनिया इरा टाक  विक्रांत ने सुबह जैसे ही अपना फेसबुक ओन किया, उसे शिवाली का मैसेज मिला... शिवाली अभी १५ दिन...
और आगे...

हास्य नाटिका- कहाँ हो तुम परिवर्तक ? - अशोक गुप्ता

Friday, December 26, 2014 0
हास्य नाटिका कहाँ हो तुम परिवर्तक ? अशोक गुप्ता अशोक गुप्ता 305 हिमालय टॉवर, अहिंसा खंड 2, इंदिरापुरम, गाज़ियाबाद 201014 ...
और आगे...

कहानी: इस ज़माने में - प्रज्ञा | Hindi Kahani By Pragya

Thursday, December 25, 2014 0
कहानी इस ज़माने में प्रज्ञा उस दिन हमेशा की तरह ठीक टाईम से ही कॉलेज पहुंची थी लेकिन स्टाफ रूम में बहुत सारा खालीपन पसरा हुआ था।...
और आगे...

मेरे मन में अनेक विचार उठ-गिर रहे हैं - भारत भारद्वाज

Wednesday, December 24, 2014 0
वर्तमान साहित्य  दिसंबर, 2014 मेरे मन में अनेक विचार उठ-गिर रहे हैं - भारत भारद्वाज               ‘जा चुके थे जो बहुत दूर,      ...
और आगे...

महेन्द्र भीष्म अनछुए विषयों को छू रहे हैं - प्रो. राजेन्द्र कुमार

Monday, December 22, 2014 0
कहानी आपबीती  महेन्द्र भीष्म साइकिल का पिछला टायर पंचर हो चुका था । वह अब क्या करे ? इतनी देर रात गये पंचर बनाने वाले की दुकान क...
और आगे...

#Shabdankan

↑ Grab this Headline Animator