October 2015 - #Shabdankan
#Shabdankan

साहित्यिक, सामाजिक ई-पत्रिका Shabdankan


निधीश त्यागी: उल्लू आंखों ..तमन्ना |Nidheesh Tyagi - Tamanna

Thursday, October 29, 2015
कहानी, बहुत कम ऐसा होता है, मेरे साथ पहले नहीं हुआ कि एक के बाद एक किसी संग्रह की सारी कहानियां दिल में उतरती जाएँ, छोटी कहानियों म...
और आगे...

अनुपमा तिवाड़ी: राजदरबार के चारण-भाटों वाला साहित्य | Anupama Tiwari

Wednesday, October 28, 2015
हमें रोकना है लेकिन क्या रोकना है ? ~ अनुपमा तिवाड़ी अब सत्ता की जय – जय गाने वाले तो बेचारे दया के पात्र हैं जो राजा की जय – जयका...
और आगे...

अनंत विजय: आलोचना कैसे सुनें | How to Listen Criticism- Anant Vijay

Monday, October 26, 2015
लेखकीय असहिष्णुता पर सवाल ~ अनंत विजय  आलोचनात्मक टिप्पणी करनेवाले  और  रचनाकार के बीच  बातचीत बंद हो जाना तो आम बात है ...
और आगे...

विनोद भारदवाज : शमशाद हुसेन | Vinod Bhardwaj - Shamshad Husain

Monday, October 26, 2015
शमशाद हुसेन शुरू में अंग्रेजी कम बोल पाने की हीन भावना पर बोले, बताया कि किशोरावस्था में गुंडागर्दी भी करता था ~ विनोद भारदवाज ...
और आगे...

अनंत विजय: विश्वनाथ तिवारी पर खतरा? | Sahitya Akademi President

Sunday, October 25, 2015
Is Sahitya Akademi President Under Pressure ? अराजकता का लाइसेंस नहीं स्वायत्ता ~ अनंत विजय साहित्य अकादमी के कार्यकारी मं...
और आगे...

भरत तिवारी: एक ग़ज़ल | A Ghazal - Bharat Tiwari

Saturday, October 24, 2015
बची हो जो गर थोड़ी ग़ैरत एक ग़ज़ल - भरत तिवारी न इंसानियत का निशाँ ही बचेगा न काबा न मंदिर न गिरजा बचेगा बची हो जो गर थ...
और आगे...

कलबुर्गी रेसोल्यूशन - साहित्य अकादेमी | Kalburgi - Sahitya Akademi

Friday, October 23, 2015
कलबुर्गी रेसोल्यूशन  भारतीय संस्कृति का बहुलतावाद बाकी दुनिया के लिए अनुकरणीय  - विश्वनाथ प्रसाद तिवारी प्रस्ताव साहि...
और आगे...

साहित्य अकादमी ने प्रो० कालबुर्गी की हत्या की निंदा की | Sahitya Akademi condemned the killing of Kalburgi

Friday, October 23, 2015 0
साहित्य अकादमी ने प्रो० कालबुर्गी की हत्या की निंदा की साहित्य अकादमी ने प्रो० कालबुर्गी की हत्या की निंदा की है और उनकी हत्या और ब...
और आगे...

#Shabdankan

↑ Grab this Headline Animator