February 2016 - #Shabdankan
#Shabdankan

साहित्यिक, सामाजिक ई-पत्रिका Shabdankan


कविता — देशद्रोह — प्रेमा झा | Sedition — Poem

Monday, February 29, 2016 0
देशद्रोह  — प्रेमा झा देशद्रोह बच्चे देशद्रोही हैं सड़क, गली, मुहल्लें और गैर-मुल्कों तक भी यह बात पंहुच गई की इस लोकतंत्र ...
और आगे...

उमर ख़ालिद मेरा बेटा है—अपूर्वानंद Apoorvanand #JNURow

Sunday, February 28, 2016 1
उमर मेरा बेटा है वह कितना दुर्भाग्यशाली राष्ट्र होगा जिसके पास युवाओं के रूप में बस आज्ञाकारी, अनुयायी दिमाग भर होंगे Hindi t...
और आगे...

ज़ेड प्लस — Ramkumar Singh — Zed Plus @indiark

Friday, February 26, 2016 0
रामकुमार सिंह के उपन्यास ‘जेड प्लस’ का  अंश  "ज़ेड प्लस सिनेमा और साहित्य की दूरियों को पाटने का काम करेगी। इसकी भाषा पठनी...
और आगे...

टीवी चैनल मौन हो जाएं देश बचा रहेगा #JNURow @ChakradharAshok

Tuesday, February 23, 2016 1
मौन की राष्ट्रभाषा —अशोक चक्रधर   मीडिया शाश्वत सजीव पेटू है, जिसे चौबीस घंटे भोजन चाहिए   — चौं रे चम्पू! हरियाना और जेए...
और आगे...

Don't blow it out of proportion #Cartoon #JNURow @rprasad66

Tuesday, February 23, 2016 0
ज़रूरत से ज़्यादा न फुलाइयेगा. आपके ही ऊपर फूट सकता है  अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्‍सप्रेस की खबर के अनुसार, अलवर से भाजपा विधायक ...
और आगे...

क्या थे रवीश और क्या हो गए हैं — दयानंद पांडेय Ravish Kumar

Monday, February 22, 2016
सच यह है कि रवीश कुमार भी दलाल पथ के यात्री हैं — दयानंद पांडेय ब्लैक स्क्रीन प्रोग्राम कर के रवीश कुमार कुछ मित्रों की राय में...
और आगे...

#Shabdankan

↑ Grab this Headline Animator