advt

अनामिका की कविता — दिल्ली: गली मुहल्ले की वे औरतें: 1275 | hindi poems by anamika

अग॰ 17, 2016

 hindi poems by anamika

कविता इतनी बेहतरीन ही होनी चाहिए, कि आप बार-बार ... बार-बार पढ़ें और जी न भरे. कि आपकी आँखों में नमी और भीतर की मुकुराहट चेहरे पर आ जाए. कि आप को इतिहास के पन्नों में ले जाया जाये और आप वर्तमान और भूत में ऐसा गड्मड हों कि सामने भविष्य आ के ख़ुद खड़ा हो जाये. 
अनामिका दीदी की कविता 'दिल्ली: गली मुहल्ले की वे औरतें: 1275' ... ...  जैसी कविता की बात मैंने कही उससे बहुत ऊपर है. पढ़ते जाइये डूबते जाइये, पढ़ते जाइये ... आइये. अनामिका दीदी बहुत आभार आपका ... और आज — आज तो आपका जन्मदिन है ... ह० निजामुद्दीन साहब आपको सारी ख़ुशियाँ दें और लफ़्ज़ों में ह० अमीर ख़ुसरो हमेशा ऐसे ही रहें जैसे की अभी ...

आपका
भरत तिवारी 
17/8/16




दिल्ली: गली मुहल्ले की वे औरतें: 1275

— अनामिका



नाज़िर मियाँ की गरम पावरोटी से पूछना —
कैसे उठता है ख़मीर उजबुजाता हुआ
खुसरो के मन में
          जब वे कहते हैं अनमेलिए !
एक पुरुख और लाखों नार,
जले पुरुख देखे संसार,
खूब जले और हो जाए राख,
इन तिरियों की होवे साख !
हँसती थीं पनिहारिनें:
”ये तो बूझ गयीं — ईंटों की भट्ठी,
और कुछ सुना दो !
पानी तो तभी मिलोगा जब हम हारेंगी।
सूख रहा है गला ? कोई बात नहीं !
थोड़ा-सा और खेल लो !
खीर की बात कहो,
नहीं-नहीं चरखे की,
ढोलकी की, नहीं कुत्ते की !
वो तो पहेली थी, थोड़े अनमेलिए कहो।
औरत का मान नहीं रखोगे ?
पद्मिनी का मान रखा,
देवलरानी पर मसनवी लिखी,
पनिहारनों की भी बात रखो !“
"अच्छा सुनो —
खीर पकाई जतन से, चरखा दिया जलाय,
आया कुत्ता खा गया, तू बैठी ढोल बजाय !
ला, पानी पिला !"
”अच्छा लो, पानी ...
पिए बिना ही चल दिए —
पद्मिनी का नाम क्योंकर लिया !“
अब बुदबुदाते चले शून्य में खुसरो,
”वो पद्मिनी और उसका भरोसा !
मान नहीं रख पाया उसका
वो पद्मिनी और उसका भरोसा।
उसका भरोसा जो उससे भी सुन्दर था ...
आप आए हैं तो जाऊँगी।
खिलजी दर्पण में चेहरा देखकर लौट जाएगा।
मोड़ लेगा घोड़े वो हिनहिनाते हुए मन के !
युद्ध में हारे-थके जिद्दे लुटेरे
औरत की गोद में शरण चाहते हैं
जैसे पहाड़ की तराई या लहरों में,
पर उनको याद नहीं आता —
कि स्त्री चेतन है
उसके भीतर तैर पाने की योग्यता,
उसकी तराइयों-ऊँचाइयों में
रमण करने की योग्यता
हासिल करनी होती है धीरज से, श्रम से संयम से !’
उसने यह कहा और चली गई
निश्चिंतता के सनातन महादुर्ग में
सिंहद्वार जिसका भरोसा ...
पर खिलजी का वादा
ताश का किला निकला।
टूट गया सब्र, वायदा टूट गया,
टूट गया हर भरोसा ...
धूँ-धूँ जली रानी,
मैं हुआ पानी-पानी !
तब से अब तक
राख ही तो बटोरता फिरता हूँ
          इधर-उधर
जैसे खुद अपनी खुदी को !
खुद को खुद ही बटोरता हूँ,
झोली में भरता हूँ खुद को,
कंधे पर रखता हूँ, चल देता हूँ,
जिंदगी बढ़ ही रही है खरामा-खरामा !
हर देहली है चटाई,
हसरत है हवा की मिठाई,
गिरकर सँभल लेता हूँ,
जिंदगी बढ़ ही रही है खरामा-खरामा !
पद्मिनी की राख उड़-उड़कर
पूछती है मुझसे — ‘कैसे हो ?’
कैसा हूँ ? क्या जाने कैसा हूँ !
वादाखिलाफी और मैं ? हाँ, मैं ही।
जिम्मा तो मैंने लिया था।
कैफीयत मुझको ही देनी थी —
रूप और कब्जा ?
क्या कब्जे की चीज है चाँदनी !
गठरी में बँधती है धूप क्या कभी और खुशबू ?
ये कैसी सनक थी तुम्हारी,
ये कैसे बादशाहत ?
खुद को जो जीत सका, बादशाह तो वो ही,
जिसको न कुछ चाहिए, बादशाह वही !
औलिया से पूछो —
क्या होती है बादशाहत !
औलिया कुतुबनुमा हैं —
जो जहाजी रास्ते भूले —
भर आँख कुतुबनुमा देखे —
कुतुबनुमा — बूझो-बुझो —
बूझो पनिहारनों, बूझो —
‘एक परिंदा बेपाँव फिरे
सीने बीच बरछी धरे
जो कोई उससे पूछने जाए,
सबको सबकी राह दिखाए —’
पर औलिया के हुजूर में
प्रश्न ही हेरा जाते हैं —
जैसे हेराए थे
पद्मिनी की नाक के मोती !
उफ, पद्मिनी !
प्रेम ? हाँ, प्रेम ही था वह’
पर उसमें कब्जे की आहट नहीं थी —
उसको भरोसा था निस्सीमता पर
जैसे कि रानी को मुझ पर,
वो मेरी शायरी से वाकिफ थी
और इस वाकफियत के आसरे
उसने मुझसे पर्दा करने की जरूरत नहीं समझी।
मैं बुतपरस्त हो गया, पर उसी दिन —
इश्क का काफिर !
प्रेम का रस पीकर
इस देह की नस-नस
हो गई धागा
काफिरों के ही जनेऊ का !
शायरी ने बहुत दिया —
सात बादशाहों की सोहबत,
और शाहों के शाह, औलिया का निज़ाम,
लूट-पाट, मार-काट की कचरापट्टी में
ऊँचा अमन का मचान
          बेफिक्र हँसता हुआ -—
हवा से हवा को,
पानी से पानी को कैसे अलगाए कोई,
जाना ही होगा, निजाम पिया !
आई अभी आई !
‘बहोत रही, बाबुल घर दुल्हन !
चले ही बनेगी, हीत कहा है,
          नैनन नीर बहाई !’



००००००००००००००००

टिप्पणियां

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (19-08-2016) को "शब्द उद्दण्ड हो गए" (चर्चा अंक-2439) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…