advt

अपनी जमीन को रिक्लेम करने की जरूरत है

अग॰ 7, 2017

 अपनी जमीन को रिक्लेम करने की जरूरत है

अनामिका शालीन महिला हैं. अगर वह जरा भी टेढ़ी हो जाएं, तो लपंटाचार्य जिदंगी भर के लिए अपनी लंपटई भूल जाएं!

सुधीश पचौरी

कवयित्री अनामिका ने भारतभूषण अग्रवाल सम्मान के लिए एक युवा कवि को क्या चुन दिया कि हिंदी साहित्य के लंपटों को आग लग गयी. एक महिला को लेकर जितने लंपटिया कशाघात हो सकते हैं, वो किये गये.

पांच की ज्यूरी में वह अकेली महिला थीं. अगर कोई मर्द (ज्यूरी) किसी को चुनता, तो भी क्या यही कहा जाता कि वे हर शाम एक युवा कवि को अपने संग घर ले के जाता था... अच्छा हुआ कि कुछ युवा लेखकों-लेखिकाओं को यह बदतमीजी नागवार लगी. फिर गरमी इतनी बढ़ी कि लंपटाचार्य को फेसबुक से अपनी टिप्पणी हटानी पड़ी!

पटना के प्रेमंचद समारोह में एक ‘सकूलर’ कवि के शामिल होने/ न होने को लेकर हुई है.पहली दो घटनाएं बताती हैं कि हिंदी साहित्य में बचा-खुचा मर्दवाद अब भी अपनी मर्दवादी ताल ठोकता रहता है, स्त्री-आखेट के लिए सोशल मीडिया को सबसे सही ठिकाना मानता है और वहीं से अपने ‘सेक्सिस्ट’ गोले दागता रहता है.


हिंदी साहित्य में कुछ स्त्रीत्ववादी स्वर में भले सुनाई पड़ने लगे हों, लेकिन मर्दवाद अब भी समझता है कि जब तक कोई लेखिका किसी मर्द साहित्यकार से ‘सही’ नहीं करवाती, तब तक उसका लेखिका होना असंभव है. अगर फिर भी वह लेखिका हो जाती है, तो उसका चरित्र संदिग्ध है!

अनामिका ने एक ज्यूरी के बतौर, कई कवियों की कविताओं में से एक कवि की एक कविता को उसी तरह चुना, जिस तरह अब तक ज्यूरी के पुरुष सदस्य चुनते रहे हैं.

पांच बरस पहले इसी अनामिका ने शायद अनुपम नामक एक युवा कवि की एक कविता को भारतभूषण सम्मान के लिए चुना था, तब किसी ने उनको लेकर कोई अभद्र टिप्पणी नहीं की थी, यद्यपि लंपटाचार्य तब भी थे!अभी उनको इतना कष्ट क्यों हुआ? इसका कारण है : ठेकेदारी! कल तक कुछ बड़े ठेकेदार होते थे, लेकिन सोशल मीडिया के सहारे कुछ नये लपके भी अपने ठेके चलाने के चक्कर में रहते हैं कि तय करें-कराएं कि कौन-सा सम्मान किसे, कब मिले? ऐसे में एक स्त्री किसी को सम्मान के लिए चुने और किसी ठेकेदार का चेला रह जाये, तो लेखिका से अपराध हुआ न! उसकी यह हिम्मत? अब निपटा देते हैं मेडम को! कर डालो चरित्र हनन!

अनामिका शालीन महिला हैं. अगर वह जरा भी टेढ़ी हो जाएं, तो लपंटाचार्य जिदंगी भर के लिए अपनी लंपटई भूल जाएं!

अकेली लेखिका के बारे में फोहश किस्से लिख उसे लज्जित कर उसे कंट्रोल में लाने के चक्कर में रहते हैं. यह शुद्ध ‘ब्लेकमेल’ है और ऐसे ब्लेकमेलियों से हिंदी भरी हुई है. ऐसों का इलाज ‘केस’ है या वह ‘सेवा’ है, जिसे किया जाता है, लेकिन कहा नहीं जाता.

हिंदी की तीसरी बीमारी ‘कमिटमेंट’ को ‘खूंटा’ समझ लेने की है. दो खूंटे हैं. एक सकूलर दूसरा कम्यूनल! अपने-अपने खूंटे में बंध कर पगुराना कमिटमेंट का दूसरा नाम है और छूआछूत इस कदर है कि किसी कम्यूनल से ‘हलो’ हो गया, तो सकूलर कम्यूनल हो गया! इतनी छूआछत और चाहते हैं ‘फासिज्म’ से लड़ना!

तो, प्रेमंचद का पटना वाला प्रोग्राम भाजपा का नहीं, बिहार सरकार का था. पहले सरकार महागठबंधन की थी, फिर एक रोज एनडीए की हो गयी. और सरकार पब्लिक के पैसे से चलती है. अगर मंगलेश उसमें चला गया, तो क्या अपराध? अखिल हिंदी क्षेत्र में हर जगह भाजपा सरकारें हैं, तब क्या सड़क पर चलना छोड़ दोगे?

लेकिन अफसोस, मंगलेश भी अपने जाने को लेकर क्षमाप्रार्थी ही नजर आया. क्यों? किसे सफाई दे रहो हो, यार? सरकारी मंचों का बायकाट करते रहोगे, तो क्या सब कुछ भाजपा को सौंप दोगे? इस समर्पणवाद से बाज आओ. अपनी जमीन को रिक्लेम करने की जरूरत है! मंच किसी के बाप के नहीं. आप अपनी कहो, वो अपनी कहें! आप ने बायकाट कर दिया, तो उन्हीं का काम कर दिया ना!

कहने की जरूरत नहीं कि आज साहित्य के प्रस्थापना विंदु (पैराडाइम) एकदम बदल गये हैं, लेकिन अब भी कुछ हैं, जो पुरानी प्रस्थापनाओं में ही अटके हैं.

उधर सोशल मीडिया में साहित्यकार के नाम पर एक विचित्र किस्म की नैतिक ब्रिगेड हावी है, जो जिस तिस के ‘अंतर्विरोधों’ को दिखा कर ‘पोल खोल’ अभियान चलाती रहती है.

कमिटमेंट को वे एक खूंटा समझती है और ईमानदारी को अपनी बेईमानी छिपाने का बहाना! साहित्य संस्कृति को लेकर जिस ‘रिगर’, जिस मेहनत और जिस धैर्य की जरूरत होती है, वह किसी-किसी ‘ब्लाॅग’ में हो तो हो, वरना ज्यादातर जगहों में, ‘मैं-मैं-मैं’ वाली आत्मश्लाघा और आत्मरति ही ‘साहित्य’ और ‘विचार’ के पर्याय नजर आते हैं.उक्त किस्से हिंदी साहित्य में पनप रही इसी तरह की बीमारियों के चिह्न हैं, जिनका ऐसा ‘क्रिटीक’ जरूरी है, जो ‘मेर तेर’ से परे रहे और नयी प्रस्थापनाओं को समझे!

(ये लेखक के अपने विचार हैं।
प्रभात ख़बर से साभार)
००००००००००००००००

टिप्पणियां

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…