advt

उर्दू को कोई ख़तरा नहीं है

सित॰ 22, 2017


असली स्वाद पाने के लिए रसिक मूल भाषा को अधिक पसंद करता है

- भरत तिवारी 




हर बोली का एक अपना-काव्य होता है, भाषाओं का विस्तार और भाषाओं का आपसी मेलजोल, उस काव्य को अन्य भाषाओं में भी ले कर आता है, लेकिन यह भी है कोई काव्य उसी बोली में अपनी पूरी छटा बिखेर पाता है, जिस बोली की वह उपज है। जापानी: हाइकू, पंजाबी: गीत, सिन्धी: सूफी, संस्कृत: कालिदास का काव्यं, राजस्थानी: डिंगलवीर या चारण, फ्रेंच: बैलेड, हिंदी: गाना, अवधी: दोहा, उर्दू: ग़ज़ल। ये कुछ मिसालें हैं जो दिखाती हैं कि भले ही काव्य की ये विधाएं मूल भाषा से इतर में भी लिखी, कही और पसंद की जा रही हैं , लेकिन इनका असली स्वाद पाने के लिए रसिक मूल भाषा को अधिक पसंद करता है।


ग़ज़ल आज अनको भाषाओं में कही जा रही है, हिंदी में इसका प्रचलन बहुत है। एक कारण हिंदी और उर्दू भाषा का एक दूसरे से जुड़े होना भी है, दोनों भाषाओं का व्याकरण एक जैसा है। इन दोनों से मिलकर जो बोली बनती है उसे बहुधा ‘हिन्दुस्तानी’ कहते हैं: उर्दू काव्य की विधा शायरी खासकर ग़ज़ल अपना असली रंग इसी बोली में दिखाती है। पहली दफ़ा अमीर खुसरो की कलम से निकलने के बाद हिन्दुस्तानी-शायरी लगातार आगे बढ़ती रही है, जिसमें वली, मीर, ज़फर, ग़ालिब से लेकर मोमिन, दाग़, बिस्मिल, फिराख और गुलज़ार, दुष्यंत तक शामिल हैं।

बुधवार को, दिल्ली के इस्लामिक सेंटर में, हिन्दुस्तानी शायरी में, शायर-गायक मीनू बख़्शी की खूबसूरत ग़ज़लों का एक नया दीवान 'मौज-ए-सराब: भ्रम की लहरें', जिसे रूपा पब्लिकेशन्स ने प्रकाशित किया है, ग़ज़लगोई और ग़ज़लों के पाठ और कथक के बीच रिलीज किया गया।

आज के नवोदय टाइम्स में





जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में स्पेनिश ज़बान की प्रोफ़ेसर मीनू बख़्शी, उसी हिन्दुस्तानी-शायरी का शौक रखती हैं, जिसका अभी मैंने जिक्र किया है। उनकी मातृभाषा पंजाबी है लेकिन अपनी दिल की बात कागज़ पर उतारने के लिए उन्होंने ज़बान-ए-उर्दू यानी हिन्दुस्तानी को चुना है। बेहतरीन आवाज़ में गायकी का हुनर रखने वाली प्रो० बख्शी को 2014 में हुस्नआरा ट्रस्ट ने अमीर ख़ुसरो एवार्ड और बिहार उर्दू एकाडमी ने जमील मज़हरी एवार्ड से सम्मानित भी किया है। और हाल ही में उन्हें स्पेन की संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए Order of Isabella la Catolica अवार्ड, जो स्पेन का दूसरा सबसे बड़ा सम्मान है, से पुरस्कृत किया गया है।

बुधवार को दिल्ली में उमस थी, लेकिन 'मौज-ए-सराब’ में पहुँच जाने से वह हसीन हो गयी। किताब को रिलीज़ किये जाने के लिए कामना प्रसाद के संचालन में बुनी शाम में चिन्तक-लेखक-डिप्लोमैट राजनीतिज्ञ पवन वर्मा, मशहूर फ़िल्मकार मुज़फ़्फ़र अली, और कलाकार-एक्टिविस्ट शबाना आज़मी मौजूद रहे।








"उर्दू को कोई ख़तरा नहीं है!" पवन वर्मा ने यह कहते हुए बताया, "हमारी बोली में उर्दू के शब्द इस तरह घुले हुए हैं कि बातचीत में वह आते ही आते हैं।"

शबाना आज़मी ने फ़रमाया, “उर्दू बहुत दिनों तक फिल्मों में सुरक्षित रही, मगर अब ऐसा नहीं है।"

जनाब मुज़फ़्फ़र अली ने कहा, "यह एक ऐसी किताब है जो आपकी हमसफ़र बनेगी, अच्छे-बुरे हर मौ़के पर यह किताब आपका साथ देगी।"






इस शाम की खूबसूरती के रंग को पुख्ता किया, कथक की माहिर शिवानी वर्मा ने। शिवानी लगातार, कथक में नए और खूबसूरत प्रयोग कर रही हैं, उनके यह प्रयोग कितने खूबसूरत हैं, इस बात का अंदाज़ा, उन्हें कॉपी किये जाने की कोशिशों, से भी लगता है। शिवानी ने आज का नृत्य मीनू बख़्शी के नए दीवान की ग़ज़ल पर परफॉर्म किया। ग़ज़ल के दो शेर देखिये —

“जब ये दिल बना है मुहब्बत का आईना
हर दम है सामने तेरी सूरत का आईना
हुस्ने-नज़र है आपका जो सुर्खरू हूँ मैं
वरना कहाँ हूँ मैं किसी अज़मत (सम्मान) का आइना”

उर्दू हिंदी का झगड़ा हमेशा से ही सियासतदानों का काम रहा है, जिसके बीज अंग्रेजों ने बोये और हम उसकी जहरीली झाड़ को अबतक पानी दे रहे हैं...यह समझना और बंद करना ‘अब’ ज़रूरी है।




(ये लेखक के अपने विचार हैं।)
००००००००००००००००

टिप्पणियां

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (23-09-2017) को "अहसासों की शैतानियाँ" (चर्चा अंक 2736) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…