advt

बेमिसाल गज़लकार श्री प्राण शर्मा की दो ताज़ा गज़लें

अक्तू॰ 5, 2013

बेमिसाल गज़लकार श्री प्राण शर्मा की गज़लों को चाहने वालों के लिए उनकी दो ताज़ा गज़लें



घर - घर  में  खूब   धूम   मचाती  है  ज़िन्दगी
क्या  प्यारा - प्यारा   रूप दिखाती  है ज़िन्दगी

रोती   है  कभी   हँसती  - हँसाती   है  ज़िन्दगी
क्या-क्या तमाशे  जग को दिखाती है ज़िन्दगी

कोई   भले  ही   कोसे  उसे  दुःख  में बार - बार
हर  शख्स  को   ऐ   दोस्तो  भाती  है  ज़िन्दगी

दुःख  का  पहाड़  उस  पे   न   टूटे  ऐ  राम  जी
दिल   को   हज़ार   बार   रुलाती   है  ज़िन्दगी

खुशियो, न जाओ छोड़ के उसको कभी भी तुम
घर  -   घर  में  हाहाकार  मचाती  है  ज़िन्दगी

ऐ `प्राण` कितना खाली सा लगता है आसपास
जब  आदमी  को  छोड़  के  जाती  है  ज़िन्दगी



ऐ  दोस्त,  रास  आती    हैं   किसको  बनावटें
चाहे  रची - बसी    हों   कुछ   उनमें  सजावटें

हर आदमी  का   काम    है  उनको   पछाड़ना
आती   हैं     जिंदगानी    में     ढेरों    रुकावटें

कोशिश करो  भले  ही  उन्हें  तुम  मिटाने की
मिटती नहीं  हैं  यादों   की   सुन्दर  लिखावटें

रखना उन्हें संभाल के  जब तक है दम में दम
मुख पर  झलकती  हैं  जो  ह्रदय  की  तरावटें

उनका  असर  ऐ  दोस्तो   किस  पर नहीं पड़ा
अब  तो  विचारों  में   भी   घुली  हैं  मिलावटें

जिस ओर  देखिये   तो  यही  आता  है  नज़र
बढ़ती   ही   जा   रही   हैं   जहां  में  दिखावटें

ऐ  `प्राण`  इस   की  शान  रहे  ऊँची  हर घड़ी
जीने   नहीं   देती   कभी   मन   की  गिरावटें
१३ जून १९३७ को वजीराबाद में जन्में, श्री प्राण शर्मा ब्रिटेन मे बसे भारतीय मूल के हिंदी लेखक है। दिल्ली विश्वविद्यालय से एम ए बी एड प्राण शर्मा कॉवेन्टरी, ब्रिटेन में हिन्दी ग़ज़ल के उस्ताद शायर हैं। प्राण जी बहुत शिद्दत के साथ ब्रिटेन के ग़ज़ल लिखने वालों की ग़ज़लों को पढ़कर उन्हें दुरुस्त करने में सहायता करते हैं। कुछ लोगों का कहना है कि ब्रिटेन में पहली हिन्दी कहानी शायद प्राण जी ने ही लिखी थी।
देश-विदेश के कवि सम्मेलनों, मुशायरों तथा आकाशवाणी कार्यक्रमों में भाग ले चुके प्राण शर्मा जी  को उनके लेखन के लिये अनेक पुरस्कार प्राप्त हुए हैं और उनकी लेखनी आज भी बेहतरीन गज़लें कह रही है।

टिप्पणियां

  1. प्राण साहेब, दोनों ही गजले उम्दा है , पर पहली ग़ज़ल ने वाकई गज़ब ढा दिया है . ज़िन्दगी के सारे मायने आपने अपने शेरो में लिख दिया है .
    आपको सलाम .
    विजय

    जवाब देंहटाएं
  2. ज़िन्दगी को सरलता से शब्दों में पिरो देना कोई प्राण शर्मा जी से सीखे ……सीधे सरल शब्दों में गहरी मार करती दोनों गज़लें ज़िन्दगी की हकीकतों से मिलवा देती हैं और हमें खुद से।

    जवाब देंहटाएं
  3. लाजवाब -- बस यही एक लफ्ज़ है जो प्राण साहब की ग़ज़लें पढने के बाद ज़ेहन में आता है। ऐसी सरलता ग़ज़ल में अन्यत्र ढूंढना बहुत मुश्किल है . एक एक शेर कसा हुआ निहायत सादगी से पाठकों के दिल में उतर जाता है . जो लोग ग़ज़लों में मुश्किल उर्दू लफ़्ज़ों का प्रयोग करते हैं और मानते हैं के उनके बिना ग़ज़ल नहीं कही जा सकती उन्हें प्राण साहब की ग़ज़लें पढनी चाहियें। आपने उन्हें बेमिसाल ग़ज़ल कार का शीर्षक बिलकुल सही दिया है .

    प्राण साहब की इन दोनों बेमिसाल ग़ज़लों को हम पाठकों तक पहुँचाने के लिए आपका आभार.

    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  4. dono gajlon ko pad kar main abhubhut ho gayaa hoon esaa lagaa jaise ve hamse baat kar rahii hain -
    e "pran" kitna khaali sa lagta hai aaspaas
    jab aadmi ko chhod kar jaati hai jindagee.
    bahut hee shareshth gajlen hain,bahut-bahut badhai bhai pran jee ko.

    जवाब देंहटाएं
  5. जीवन की कुछ चुनिन्दा बातों को बाखूबी शेरों में ढाल दिया प्राण साहब ने ... ओर यही खासियत है इनकी गज़लों की जो हमेशा आकर्षित करती है ...

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणी पोस्ट करें

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…