advt

समय को समझने की कुछ और कोशिशें - प्रियदर्शन (hindi kavita sangrah)

फ़र॰ 1, 2015

समय को समझने की कुछ और कोशिशें

प्रियदर्शन की कवितायेँ


एक

समय वह अदृश्य झरना है जो हमारे आंसुओं से बनता है
बेआवाज वह अनुपस्थिति जिसकी चहलकदमी सबसे ज़्यादा महसूस होती है
ये उसकी सड़कें नहीं, हमारे सीने हैं
             जिन पर वह पांव धरता है
यह धरती उसकी बेडौल स्लेट है जिस पर किसी नटखट शिशु सा वह खेलता है।
हम वे अक्षर हैं जिन्हें वह लिखता है
हम वे इबारतें हैं जिन्हें वह मिटाता है
वह पहाड़ों से उतरता नदियों में मुंह धोता
सूरज के आईने में अपनी बेआकार सुंदरता को निहारता है
वह जो हमसे ले जाता है, वह सुख है
वह जो हमें दे जाता है, वह दुख है
वह बीत जाता है हम रीत जाते हैं
हम बीता हुआ, रीता हुआ समय हो जाते हैं
      जो हमें याद करता है, दरअसल उस समय को याद करता है।

दो

समय को पकड़ने की कोशिश कोई कैसे करे
वह कल्पनाओं की बड़ी से बड़ी मुट्ठी में नहीं आता
वह यादों की बड़ी से बडी संदूक में नहीं समाता
कभी वह इतना सूक्ष्म हो जाता है कि दिखाई नहीं पड़ता
कभी इतना विराट कि मापा नहीं जाता
वह कभी इतना ठहरा हुआ लगता है कि
                     बर्फ की झील मालूम पड़े
और कभी इतने उद्दाम वेग से भरा
  कि सूनामियां शरमाएं-सिहर जाएं
यह समय जैसे कोई मायावी है
कभी उसका एक पल युगों जैसा लगता है
कभी-कभी कई युग पलक झपकते बीत गए लगते हैं
वह कभी हमारे जिस्मों में बैठा मालूम होता है
हमारे पुर्जे घिसता हुआ और उनकी एक्सपायरी डेट देखता हुआ
कभी वह जिस्मों से बाहर दुनिया के सारे कोलाहल में व्याप्त नज़र आता है
इस समय के साथ हमारा रिश्ता बड़ा अजीब है
जो जितनी तेजी से बीतता है, हम उसके उतने ही ठहरे रहने की कामना करते हैं
जो बिल्कुल ठहर जाता है, उसके किसी तरह बीत जाने की प्रार्थना करते हैं
समय के साथ यह लुकाछिपी खेलते, कभी उसे बदलते, कभी उसके हिसाब से बदलते
कहां तक चली आई है मनुष्यता।
सोचा है यह कभी?

तीन

वह बहुत बड़ा वैज्ञानिक और गणितज्ञ रहा होगा
जिसने पहली बार पहचाना होगा कि
सूरज के उगने और डूबने का समय बिल्कुल एक है
उसकी निठल्ली एकाग्रता की कल्पना भी मुश्किल है
जिसने एक-एक लम्हे को गिनते हुए जोड़ा होगा कि सूरज सिर तक आने में और फिर उतर कर विलीन हो जाने में
कितना समय लेता है
उसका साहस भी अनूठा होगा
जिसने देखा होगा कि रात भी दिन की सहेली है
दोनों मिलकर आते-जाते बनाते हैं जीवन का वह सिलसिला
जो अब तक की सबसे बड़ी पहेली है
और उसकी तो कल्पना करो
जिसने मौसमों का हिसाब लगाया होगा
सर्दियों में कांपते हुए, बौछारों में तर-बतर और
गर्मियों में बिल्कुल लाल भभूका पाया होगा
कि मौसम लौट कर आते हैं और ऋतुओं की भी लय होती है
जिन्हें ठीक से समझ जाएं तो आने वाले दिनों का स्वभाव समझा जा सकता है
बेशक, ये सब एक दिन में नहीं हुए होंगे
न जाने कितने अछोर बरस-दशक खप गए होंगे
हो सकता है कुछ सदियां भी बह-बिला गई होंगी
लेकिन यह इंसान होने का जुनून और करिश्मा न होता
तो एक अनंत-अछोर, बेसिलसिला स्मृतिविहीनता में क्या डोलती नहीं रहती यह दुनिया?
समय की बहुत परवाह न करने वाले इस समय में 
एक सलाम उनको करने का जी चाहता है
जिन्होंने काल के चक्के को रोक कर उसकी धुरियां गिनीं
और सभ्यता के सफ़र का ठीक-ठीक हिसाब लगा डाला। ​

चार

लेकिन हर समय एक सा नहीं होता
हमारी स्मृति मे न जाने कितने लहूलुहान समय दर्ज हैं
जो सिर्फ हमें ही नहीं, हमारी पूरी सभ्यता को टीसते रहेंगे।
लेकिन उनके मुक़ाबले में एक स्मृति उन समयों की भी होगी
जब प्रतिरोध ने मानवीय गरिमा को नए मानी दिए होंगे
दरअसल हम सब इस समय में हैं- इस समय की संतानें हैं
हम इस समय में ही बोते हैं, इस समय में ही काटते हैं
हम इस समय में ही पुकारते हैं, इस समय में ही हारते हैं
शुक्र है कि हम इस समय में जीतते भी हैं और जीतते हुए
अपना भरोसा भी जीतते हैं।
न जाने कितने तूफ़ान हमारे ऊपर से गुजर गए
न जाने कितने जलजलों ने हमारे नीचे की धरती खिसका डाली
न जाने कैसे-कैसे सैलाब हमें बहा कर ले गए
लेकिन समय में हमने अपना भरोसा बनाए रखा।
इन दिनों भी हम जैसे एक सैलाब के सामने हैं
बस इस उम्मीद की डोर थामे
कि एक दिन समय इस सैलाब को भी अपने साथ बहा ले जाएगा।

पांच

समय को लेकर बुजुर्गों ने न जाने कितने मुहावरे गढ़े
सलाह दी कि समय बहुत बलवान होता है, उससे डरो
समझाया कि समय बहुत क़ीमती होता है, उसे बरबाद न करो
ताक़ीद की कि समय का सम्मान करना सीखो
वह हमेशा एक जैसा नहीं होता
असमय बेसमय कुसमय कुछ करने, न करने के नियम बनाए
शुभ समय निकालने के ढेर सारे तरीक़े खोजे
लेकिन समय से संग्राम जैसे चलता रहा
अच्छे समयों में बुरी ख़बरें आती रहीं
बुरे समयों में उम्मीदें माथा सहलाती रहीं
यह भी सुना कि समय पंख लगाकर उड़ता है
जब कभी ऐसा हुआ, तब पता ही नहीं चला
कि वह समय था जो चला गया।
हमें तो ज़्यादातर वह कटे पंखों के साथ धरती पर गिरा मिला।
इसी से समझ में आया
समय कई तरह के होते हैंp
समय के विरुद्ध भी होता है एक समय
अच्छे समय के पीछे हमेशा लगा रहता है बुरा समय
हालांकि जिन्होंने समय की बहुत ज़्यादा परवाह की
वे भी ठीक से जी नहीं पाए
संपर्क:

प्रियदर्शन

ई-4, जनसत्ता, सेक्टर नौ, वसुंधरा, गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश
मोबाईल: 09811901398
ईमेल: priyadarshan.parag@gmail.com
और जिन्होंने समय को बहुत ज़्यादा साधना चाहा
उन्होंने हासिल तो बहुत किया, लेकिन सुखों को महसूस करना भूल गए
जो समय से बेपरवाह रहे, उन्होंने बहुत सारे दुख उठाए
जो समय से आगे रहे, उन्होंने जमाने के हाथों बहुत सारे ज़ख़्म खाए
लेकिन यह सच है कि दुनिया उन्होंने ही बनाई
जिन्होंने समय को अपनी तरह से दी चुनौती
उसको अपनी तरह से जिया
और जीते-जीते नए सिरे से परिभाषित कर दिया।

ये पढ़े क्या?

{{posts[0].title}}

{{posts[0].date}} {{posts[0].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[1].title}}

{{posts[1].date}} {{posts[1].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[2].title}}

{{posts[2].date}} {{posts[2].commentsNum}} {{messages_comments}}

{{posts[3].title}}

{{posts[3].date}} {{posts[3].commentsNum}} {{messages_comments}}

ये कुछ आल टाइम चर्चित

कहानी: दोपहर की धूप - दीप्ति दुबे | Kahani : Dopahar ki dhoop - Dipti Dubey

अरे! देखिए वो यहाँ तक कैसे पहुंच गई... उसने जल्दबाज़ी में बाथरूम का नल बंद कि…

जनता ने चरस पी हुई है – अभिसार शर्मा | Abhisar Sharma Blog #Natstitute

क्या लगता है आपको ? कि देश की जनता चरस पीए हुए है ? कि आप जो कहें वो सर्व…

मुसलमान - मीडिया का नया बकरा ― अभिसार शर्मा #AbhisarSharma

अभिसार शर्मा का व्यंग्य मुसलमान - मीडिया का नया बकरा …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

कायरता मेरी बिरादरी के कुछ पत्रकारों की — अभिसार @abhisar_sharma

मैं सोचता हूँ के मोदीजी जब 5, 10 या 15 साल बाद देश के प्रधानमंत्री नहीं …

साल दर साल

एक साल से पढ़ी जाती हैं

कहानी "आवारा कुत्ते" - सुमन सारस्वत

रेवती ने जबरदस्ती आंखें खोलीं। वह और सोना चाहती थी। परंतु वॉर्ड के बाहर…

चतुर्भुज स्थान की सबसे सुंदर और महंगी बाई आई है

शहर छूटा, लेकिन वो गलियां नहीं! — गीताश्री आखिर बाईजी का नाच शुर…

प्रेमचंद के फटे जूते — हरिशंकर परसाई Premchand ke phate joote hindi premchand ki kahani

premchand ki kahani  प्रेमचंद के फटे जूते premchand ki kahani — …

हिंदी कहानी : उदय प्रकाश — तिरिछ | uday prakash poetry and stories

उदय प्रकाश की कहानी  तिरिछ  तिरिछ में उदय प्रकाश अपने नायक से कहल…

मन्नू भंडारी: कहानी - अकेली Manu Bhandari - Hindi Kahani - Akeli

अकेली (कहानी) ~ मन्नू भंडारी सोमा बुआ बुढ़िया है।  …

गुलज़ार की 10 शानदार कविताएं! #Gulzar's 10 Marvellous Poems

गुलज़ार की 10 बेहतरीन कविताएं! जन्मदिन मनाइए: पढ़िए नज़्म छनकती है...  गीतका…

हिन्दी सिनेमा की भाषा - सुनील मिश्र

आलोचनात्मक ढंग से चर्चा में आयी अनुराग कश्यप की दो भागों में पूरी हुई फिल…

अनामिका की कवितायेँ Poems of Anamika

अनामिका की कवितायेँ   Poems of Anamika …

महादेवी वर्मा की कहानी बिबिया Mahadevi Verma Stories list in Hindi BIBIYA

बिबिया —  महादेवी वर्मा की कहानी  mahadevi verma stories list in hind…