क्या-क्या है : हंस सितम्बर 2014 | Hans September 2014 Content - Hindi Kahani, Kavita, Articles, Ghazal

क्या-क्या है 

हंस सितम्बर 2014 

संपादकीय - एक दुर्घटना के सामाजिक पहलू : संजय सहाय

अपना मोर्चा

कहानियाँ
Hans September 2014 Content - Hindi Kahani, Kavita, Articles, Ghazal etc
डेरिक की तीर्थयात्रा : अर्चना पैन्यूली
अँगूठा : मधु अरोड़ा
पिछली सदी की अंतिम प्रेमकथा : प्रताप दीक्षित
चीकट लबादा : अशोक गुप्ता
आगामी अमावस : नरेन्द्र नागदेव
लावण्या : ब्रजकिशोर झा
नजात : अब्दुस समद (अनु– : हैदर जाफ़री सैयद)

कविताएँ
प्रतापराव कदम,  कुमार विश्वबंधु, जनार्दन,  वीणा वत्सल सिंह, शेफाली फॉस्ट

स्लीमेन के संस्मरण
फ्रेजर की हत्या और नवाब की फाँसी : विलियम हेनरी स्लीमेन (अनु– : राजेन्द्र चंद्रकांत राय)

संस्मरण
मकसद और मसरूफियतों के बन्ने भाई : मोहम्मद असदुल्लाह

ग़ज़ल : भरत तिवारी

लघुकथा : जाफ़र मेहदी जाफ़री, अमरीक सिंह दीप

परख :
महागुरु मुक्तिबोध : व्याप्ति और वितान : संजीव
संस्कृति और समाज के घने रिश्ते की पड़ताल : भारत भारद्वाज
तिलिस्मी मुहावरे में नारीवाद : राजेश जैन


बीच बहस में
मैकाले पर दुराग्रह क्यों : अरुण चतुर्वेदी
जवाबी तेवरों के भीतर भी झाँकें : असीम सत्यदेव


आलेख
भारतीय चिंतन में दुख विमर्श : सुधा चैधरी

शब्दवेधी/शब्दभेदी : एक टुकड़ा जमीन का नाम है फ़िलिस्तीन : तसलीमा नसरीन

रेतघड़ी

सृजन परिक्रमा : मर्यादा के फिक्रमंद नामवर सिंह : दिनेश कुमार
Share on Google +
    Facebook Commment
    Blogger Comment

0 comments :

Post a Comment

osr5366