'वर्तमान साहित्य' अगस्त, 2015 - | 'Vartman Sahitya' August 2015


वर्तमान साहित्य

साहित्य, कला और सोच की पत्रिका


'वर्तमान साहित्य' अगस्त, 2015 - आवरण व अनुक्रमणिका


'वर्तमान साहित्य' जुलाई, 2015 - आवरण व अनुक्रमणिका | 'Vartman Sahitya' July 2015, Cover and Content
आवरण के छायाकार दिलीप कुमार शर्मा ‘अज्ञात’
वर्ष 32 अंक 8  अगस्त, 2015

सलाहकार संपादक:  रवीन्द्र कालिया | संपादक: विभूति नारायण राय | कार्यकारी संपादक: भारत भारद्वाज | कला पक्ष: भरत तिवारी

--------------------------------------------------------------


आलेख
कर्तार सिंह सराभा -  सिद्धांत और व्यवहार के बीच पाप की छाया का निषेध /प्रो. प्रदीप सक्सेना
इस्मत चुग़ताई –मंज़र पसमंज़र / प्रो. अली अहमद फ़ातमी धारावाहिक उपन्यास–3
कल्चर वल्चर / ममता कालिया

संस्मरण
नामवर होना / भरत तिवारी

अनुवाद
ताला (अर्जेंटिना की कहानी) / मूल -  
फरनांडो सोरेंटिनो रूपांतरण -  डॉ. विजय शर्मा
कंकड़ खाने की आदत (बांग्ला कहानी) / मूल - रमानाथ रायअनुवाद -  दिलीप कुमार शर्मा ‘अज्ञात’

कविताएं
अभिनव निरंजन
जितेन्द्र धीर


कहानी
घोड़ला / हरिराम मीणा
कहानी कभी नहीं मरती /सुशांत सुप्रिय
कचैड़ी गली / अनिता गोपेश
फ्री लंच / वन्दना मुकेश

मीडिया
मीडिया की शब्दावली सचमुव विचित्र है /प्रांजल धर

समीक्षा
इतिहास से भूगोल तक / स्वप्निल श्रीवास्तव
शिक्षा का सच और सार्थकता की तलाश / धर्मेन्द्र सुशान्त

००००००००००००००००


Share on Google +
    Facebook Commment
    Blogger Comment

0 comments :

Post a Comment

osr5366