तू न जिया न मरा ! - प्रेम शर्मा

तू न जिया
न मरा,
                       ज्यों कांटे
                       पर मछली,
प्राणों में
दर्द पिरा.
*
                       सहजन की
                       डाल  कटी ,
                       ताल पर
                       जमी काई,
                       कथा अब
                       नहीं कहता
                       मंदिर वाला
                       साईं,
दुःख में
सब एक वचन
कोई नहीं दूसरा.
**
                       औषधि
                       जल
                       तुलसीदल
                       सिरहाने
                       बिगलाया,
                       ईंधन कर दी
                       अपनी उत्फुल काया,
धरती पर
देह-धरम
आजीवन हुक-भरा.
***
                       माथे पर
                       गंगाराज,
                       हाथों में
                       इक्तारा,
                       बोला
                       चलती बिरियाँ
                       जनमजला
                       बंजारा,
वैष्णव जन
ही जाने
                       वैष्णव जन का
                       दुखड़ा!



प्रेम शर्मा
                                                   ('धर्मयुग', १५ फरवरी, १९७०)

काव्य संकलन : प्रेम शर्मा

Share on Google +
    Facebook Commment
    Blogger Comment

0 comments :

Post a Comment

osr5366