बदले मन के प्रसंग - प्रेम शर्मा

बदले
मन के प्रसंग
बदली बोली-बानी!
*
                       टूटा
                       फूटा मजार
                       खँडहर-सा
                       एक कुआँ,
                       गूलर के
                       पेड़ तले
                       देता
                       खामोश दुआ,
मीलों तक
बियावान
करता है अगवानी !
**
                       जी हो
                       अथवा जहान ,
                       मगहर हो
                       या काशी,
                       आधा जीवन
                       मृगजल,
                       आधा
                       तीरथवासी,
एक ही
अगन मोती
एक ही अगन पानी !



प्रेम शर्मा
                       ('धर्मयुग'. १६ अप्रैल, १९७२; नया प्रतीक [पूर्वांक] दिसंबर, १९७३)

काव्य संकलन : प्रेम शर्मा

Share on Google +
    Facebook Commment
    Blogger Comment

0 comments :

Post a Comment

osr5366