सुन भाई हर्गुनिया, निर्गुनिया फाग - प्रेम शर्मा

जल ही
जल नहीं रहा,
                     आग नहीं
                     आग.
सूरत बदले
चेहरे,
                     सीरत बदला
                     जहान,
पानी उतरा
दर्पण,
                     खिड़की-भर
                     आसमान,
ढलके
रतनार कंवल ,
                     पूरते
                     सुहाग.
जीते-
मरते शरीर,
                     दुनिया
                     आती-जाती,
जूझते हुए
कंधे,
                     छीजती हुई
                     छाती,
कल ही
कल नहीं रहा,
                     आज नहीं
                     आज,
सुन भाई
हर्गुनिया,
                     निर्गुनिया
                     फ़ाग.



प्रेम शर्मा
                          ('साप्ताहिक हिंदुस्तान', १३ फरवरी, १९७७)

- काव्य संकलन : प्रेम शर्मा

Share on Google +
    Facebook Commment
    Blogger Comment

0 comments :

Post a Comment

osr5366