अग्नि प्रणाम - प्रेम शर्मा

बूढा बरगद
छाँह घनेरी,
                   मंदिर
                   घाट
                   नदी के,
आसमान
धूसर पगडण्डी,
                   कब से तुझे
                   पुकारे,
लौट न आ रे
लौट न आ रे…
*
सौदागर
नगरी में जाकर,
                   क्या खोया
                   क्या पाया,
भोला मुखड़ा
सपन सजीले ,
                   हीरा
                   कहाँ गंवाया,
कहाँ गया
तेरा इकतारा,
                   राम
                   कहाँ बिसराया ,
कुछ तो कह
ओ राम बावरे
                   कुइच तो गा रे !
**
कंचन नगरी
छत्र बिराजै,
                   मंदिर बरन
                   मदिरा-सुख साजै,
कामिनी
निरत करे हमजोली ,
                   रंग अनंत
                  अनंत ठिठोली,
-ऐहिक
इंद्रजाल उरूझानी
                  हिवड़ा
                  हुडुक-हुडुक हलकानी,
माहुर-धार
कटार सरीखी,
                  तृष्णा
                  मृगतृष्णा रे,
मातुल
पितुल कहाँ रे !
***
प्राण-पुहुप
जननी हम तेरे,
                  पुनरपि जन्मम
                  हेरे-फेरे,
निपट अजोग,
ललाट लिखाने,
                  हम हीरा
                  अनमोल बिकाने,
टूटा
रुनक-झुनक
इकतारा,
                   ना हम जीते
                   ना जग हारा,
लीजो
अग्नि-प्रणाम हमारे,
                   कीजो
                   हमें क्षमा रे !



प्रेम शर्मा
                                            ('साक्षात्कार', अगस्त, १९९८)

काव्य संकलन : प्रेम शर्मा

Share on Google +
    Facebook Commment
    Blogger Comment

0 comments :

Post a Comment

osr5366